अब जालौन में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद गला घोंटकर निर्मम हत्या, खेत में मिला शव

  • Line : Ashok Chaudhary
  • 10 June,2019
  • 286 Views
अब जालौन में बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद गला घोंटकर निर्मम हत्या, खेत में मिला शव

नई दिल्ली: पहले अलीगढ़, फिर हमीरपुर में बच्ची से हैवानियत। दोनों ही मामलों पर जनाक्रोश के बीच अब जालौन जिले में भी बच्ची के साथ दुष्कर्म के बाद गला घोंट दिया गया। रूह कंपा देने वाली यह वारदात कुठौंद क्षेत्र के एक गांव में हुई। जहां शनिवार शाम घर के बाहर खेलते समय आठ वर्षीय बच्ची अचानक लापता हो गई। रविवार सुबह उसका शव गांव से एक किलोमीटर दूर खेत में निर्वस्त्र मिला।

 

झांसी परिक्षेत्र के डीआइजी सुभाषचंद्र बघेल, राज्य महिला आयोग की सदस्य कंचन जायसवाल ने मौका मुआयना किया। पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर हिरासत में लिया है। घटना से लोगों में गम और गुस्सा है। पुलिस अधीक्षक स्वामी प्रसाद ने बताया कि बच्ची के पिता की तहरीर पर गांव के मोतीलाल व जाहर सिंह के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर हिरासत में ले लिया गया है। उनसे पूछताछ हो रही है। तथ्य सामने आते ही पर्दाफाश किया जाएगा।

 

शनिवार शाम आठ साल की बच्ची घर के बाहर सहेलियों के साथ खेल रही थी। बच्ची को आंखों से कम दिखाई देता था और शाम ढलते ही वह अचानक लापता हो गई। वह घर नहीं लौटी तो परिजनों ने तलाश शुरू की लेकिन उसका कहीं पता नहीं चला। रविवार सुबह ग्रामीणों को उसका निर्वस्त्र शव खेत में कुलाबे के पास झाड़ियों में पड़ा मिला। मौके के मंजर ने लोगों को झकझोर दिया। दो डाक्टरों के पैनल ने शव का पोस्टमार्टम किया। रिपोर्ट अभी पुलिस को नहीं मिली है। लेकिन, सूत्रों के मुताबिक दुष्कर्म व गला घोंटकर हत्या की पुष्टि हुई है।

 

 

पुलिस पर फूटा लोगों का गुस्सा

 

घटना की जानकारी होते ही आसपास के गांव से लोगों की भीड़ एकत्र हो गई। मौके पर आई पुलिस पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। थोड़ी देर में सीओ सुबोध गौतम पहुंचे लोगों को शांत कराया। एसपी स्वामी प्रसाद ने मौके पर पहुंचकर पड़ताल की, उन्होंने बताया कि पिता की तहरीर पर गांव के मोतीलाल व जाहर सिंह के विरुद्ध हत्या कर शव छुपाने की धारा में मुकदमा दर्ज किया गया। आरोपितों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पूरे तथ्यों के साथ घटना का जल्द पर्दाफाश किया जाएगा।

 

 

पांच सौ मीटर दूर मिली चप्पलें

कुठौंद में सनसनीखेज वारदात की सूचना मिलने पर झांसी परिक्षेत्र के पुलिस उप महानिरीक्षक सुभाष चंद्र बघेल भी घटनास्थल पर पहुंचे। करीब पांच सौ मीटर दूर बनी पुलिया के पास बच्ची की चप्पलें पड़ी मिली हैं। आशंका है कि पुलिया के पास बच्ची की हत्या के बाद शव को गूल में छिपाने के लिए घसीटकर लाया गया। खेत में घसीटे जाने के भी निशान मिले हैं। खेत पर पहुंची महिलाओं ने डीआइजी से रोते हुए कहा कि निर्दोष लोगों को बच्ची की हत्या में फंसाया जा रहा है। डीआइजी ने भरोसा दिया कि किसी भी निर्दोष व्यक्ति पर कार्रवाई नहीं होनी जाएगी।

 

 

परिजनों से मिलीं राज्य महिला आयोग की सदस्य

वारदात की जानकारी होने के बाद राज्य महिला आयोग की सदस्य कंचन जायसवाल भी गांव पहुंची और घटनास्थल का मुआयना किया। बच्ची के घर पहुंचकर उन्होंने बदहवास मां को आरोपित पर सख्त से सख्त कार्रवाई किए जाने का भरोसा दिया। डीआइजी और एसपी ने भी बच्ची के घर पहुंचकर मां व पिता से पूछताछ की।

 

 

भयभीत परिवार को दी सुरक्षा

अपहरण के बाद बच्ची की हत्या से परिवार भयभीत है। पिता का कहना है कि उसने किसी के खिलाफ तहरीर नहीं दी है, पुलिस ने रंजिश के बारे में पूछा तो मोतीलाल व जाहर सिंह से पुराना विवाद होने की जानकारी दे दी। हत्या में उनका हाथ यह नहीं कह सकता हूं। अब उसे डर है कि घटना में उन लोगों का हाथ नहीं हुआ तो उसका गांव में रहना मुश्किल हो जाएगा। डीआइजी ने परिवार को सुरक्षा देने का भरोसा दिया है। दो पुरुष व एक महिला सिपाही को सुरक्षा में तैनात करने का आदेश सीओ को दिया है।

 

पोस्टमार्टम में होगी दुष्कर्म की पुष्टि

बच्ची के शरीर पर कोई कपड़ा नहीं था। उसकी सलवार से ही गला घोंटकर हत्या की गई है। फिलहाल दुष्कर्म से इन्कार कर रही पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर निगाह टिकाए है। पोस्टमार्टम में ही दुष्कर्म की पुष्टि होने पर धारा बढ़ाई जाएगी। फिलहाल हत्या कर शव छिपाने व पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज किया गया है।

 

 

पहले भी जेल जा चुके हैं आरोपित

बच्ची की हत्या के आरोप में हिरासत में लिये गए मोतीलाल व जाहर सिंह की पृष्ठभूमि आपराधिक है। पुलिस अधीक्षक स्वामी प्रसाद के अनुसार अपहरण व दुष्कर्म के मुकदमे में आरोपित पहले भी जेल जा चुके हैं। दोनों निर्भय सिंह गुर्जर गिरोह के सामान्य सदस्य रहे हैं। हालांकि ज्यादातर ग्रामीण बच्ची की हत्या में उनका हाथ न होने की बात कह रहे हैं। पुलिस सभी बिंदुओं पर जांच कर रही है।

 

 

परिवार में तीन सदस्यों की नेत्र दिव्यांग

बच्ची को आंखों से बेहद कम दिखता था, उसके एक भाई और मां की भी यही स्थिति है। तीन महीने पहले चिकित्सा विभाग की टीम ने उनकी जांच की थी। बच्ची का झांसी में स्वास्थ्य विभाग द्वारा निश्शुल्क आपरेशन भी किया गया था लेकिन आंखों में सुधार नहीं हुआ था।

 

 

डकैतों की चहलकदमी से कुख्यात रहा है गांव

आठ साल की बच्ची के अपहरण के बाद नृशंस हत्या से सुर्खियों में आया आल बिजवाहा गांव बीहड़ में स्थापित है। दस साल पहले तक यह गांव डकैतों की सक्रियता की वजह से कुख्यात था। दस्यु सरगना मंगली केवट भी इसी गांव का है, जो कानपुर देहात की जेल में बंद है। दस्यु निर्भय सिंह गुर्जर को इसी गांव में संरक्षण मिलता रहा है। निर्भय सिंह गुर्जर की पुलिस से बड़ी मुठभेड़ इसी गांव में हुई थी।

 

जबलपुर में भी ऐसी ही घटना सामने आई है

Tag With

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING