loading...

अहिंसा एवं शाकाहार : आधुनिक जीवन शैली के आवश्यक अंग है!

  • 25 December,2018
  • 237 Views
अहिंसा एवं शाकाहार : आधुनिक जीवन शैली के आवश्यक अंग है!

 

मानव जीवन में अहिंसा एवं शाकाहार का विशेष महत्व है। अहिंसा एक श्रावक के लिये अणुव्रत धर्म है बहीं दूसरी ओर मुनियों के लिये महाव्रत है। मनुष्य दैनिक जीवन चर्या में सूक्ष्म हिंसा का भागीदार हो ही जाता है लेकिन साधू की चर्या अहिंसात्मक है। जैन आचार्यों, मुनियों तथा कुछ श्रावकों में ही पुर्ण आचरण की शुद्धिता पायी जाती है, जिनकी करनी तथा कथनी एक होती है। यदि हमें चारित्रिक विकास करना है तो निश्चित रूप से, मन वचन काय से एकरूपता लानी होगी।

 

 

अहिंसाणुव्रत : रत्नकरण्डक श्रावकाचार में आचार्य समंतभद्र स्वामी ने अहिंसाणुव्रत के बारे में लिखा है कि मन से, वचन से तथा काय से जानबूझकर हिंसा न तो करना, न करवाना और न किये जाने का अनुमोदन/ समर्थन करना अहिंसाणुव्रत का परिपालन है। अंग छेदन, बंधन, पीड़न, अधिक भार लादना तथा आहार को रोकना ये पांच अहिंसाणुव्रत के अतिचार हैं। अहिंसा जैन धर्म का आधार स्तम्भ है। जैन धर्म में प्राणी मात्र के कल्याण की भावना निहित है। जैन धर्म में मनुष्य, पशु-पक्षी, कीड़े–मकोड़े के अलावा पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और वनस्पति में भी जीव माना गया है। जैन धर्म के अनुसार इन जीवों को न मारना ही अहिंसा है।

 

 

जैन दार्शिनिकों ने उस क्रिया को हिंसा कहा है जो प्रमाद अथवा कषायपूर्वक होती है। हिंसा दो प्रकार की होती है : भाव हिंसा और द्रव्य हिंसा।

 

 

भाव हिंसा का सम्बंध कषाय से है। द्रव्य हिंसा भाव हिंसा से उत्पन्न होती है और भाव हिंसा को उत्पन्न भी करती है। एक व्यक्ति ऐसा है जो केवल वध की भावना करता है; दूसरा भावना के साथ वध करता है; और तीसरा व्यक्ति बिना भावना के ही वध कर देता है, अत: इन तीनों ही हिंसा में असमानता है।

 

 

डा. मोहन लाल मेहता (श्रमण, फरवरी 1980) ने लिखा है कि हिंसा अहिंसा के निम्न चार रूप बनते हैं: 1. जो हिंसा भावरूप भी है और द्रव्यरूप भी, ऐसी हिंसा को हम पूर्ण हिंसा कहेंगे। 2. जो हिंसा केवल भावरूप है, ऐसी हिंसा किसी अंश में अपूर्ण होती है।इसे अपूर्ण अहिंसा भी कह सकते हैं। 3. जो हिंसा केवल द्रव्यरूप है, ऐसी हिंसा को अपूर्ण अहिंसा अथवा अपूर्ण हिंसा कहा जा सकता है। इसमें केवल प्राणवध होता है। 4. जहां न भावरूप हिंसा हैन द्रव्यरूप हिंसा, ऐसी स्थति का नाम पूर्ण अहिंसा है। इसमें न प्रमत्त प्रवृत्ति होती है न प्राण वध॥

 

खान पान का असर हमारे जीवन और व्यवहार पर बहुत ज्यादा पड़ता है। मनुष्य स्वाभाविक रूप से एक शाकाहारी प्राणी है लेकिन आधुनिक जीवन शैली ने उसे सर्वहारी बना दिया है। अत: आत्म चिंतन तथा स्व मूल्यांकन की आवश्यकता है इससे अनेक समस्याओं का स्वत: समाधान हो जायेगा। अत: हम अंधी प्रतिस्पर्धात्मक दौड़ में ना भागें बल्कि स्वविवेक पूर्वक कार्य करें। कहा भी गया है कि : जैसा खाओगे अन्न, वैसा होगा मन।

 

 

अहिंसा को आचरणीय कहा गया है क्योंकि संसार के सभी प्राणी जीना चाहते हैं, कोई भी प्राणी मरना नहीं चाहता। जिस प्रकार सभी को सुख प्रिय है और दुख प्रिय नहीं है इसलिये किसी को भी हिंसा नहीं करनी चाहिये। सभी धर्मों में अहिंसा का महत्व बताया गया है लेकिन फिर भी सारे विश्व में धर्म के नाम पर ही दंगा, फसाद और हिंसक गतिविधियां होती हैं। इसके पीछे का प्रमुख कारण धार्मिक कट्टरता, धार्मिक उन्माद, सहिष्णुता तथा भाईचारे की कमी है। अत: धार्मिक सहिष्णुता एवं वार्तालाप के द्वारा शांति और सद्भाव का वातावरण बनाने का प्रयास करना चाहिये। जैन धर्म की दृष्टि से हिंसा एक कषाय है जो कषाय से उत्पन्न होती है और कषाय को उत्पन्न भी करती है। जबकि अहिंसा न तो कषाय का कारण है न कषाय का कार्य। अत: अहिंसा आचरणीय है।

 

 

जैन धर्म के सिद्धांत : अनेकांतवाद तथा स्यादवाद हमें सर्व धर्म समभाव की सीख देते हैं बहीं भगवान महावीर का सिद्धांत “जिओ और जीने दो” सब जीवों के कल्याण की राह दिखाता है। बहीं “परस्परोपग्रहो जीवानाम” का सिद्धांत सभी जीवों पर उपकार करते हुये, भलाई का कार्य करते हुये जीवन जीने की प्रेरणा देता है। अंत में कहना चाहता हूं कि आज विश्व को भगवान महावीर के सिद्धांतों को अपनाने की आवश्यकता है क्योंकि विश्व कल्याण के लिये, विश्व शांति के लिये अहिंसा ही एक मात्र समाधान है। अहिंसा परमो धर्म की जय।

 

 

मनुष्य को जीवन में जागरूक रहते हुये सात्विकता पूर्ण आचरण करना चाहिये। इसके अलावा खान पान में पूर्ण शाकाहार का पालन करना चाहिये। इस तरह से जीवन में श्रेष्ठता तथा सम्पन्नता आयेगी। प्रकृति का संरक्षण होगा। यह सभी जीवों के हित में है इसमें किसी का भी अहित नहीं है इसीलिये यह एक आधुनिक श्रेष्ठ जीवन शैली है। इसे अपनाकर मानव अपनी श्रेष्ठता सावित कर सकता है।

 

 

संदर्भ : 1.मेहता, मोहन लाल (1999). जैन धर्म-दर्शन. बेंग्लौर, सेठ मूथा छगनमल मेमोरियल फाउण्डेशन. पृ। 629-631. 2.जैन, शेखर चंद्र (2009). जैन धर्म जानिए. जयपुर, ज्ञान प्रकाशन. पृ. 13. 3.आचार्य समंतभद्र. रत्नकरण्डक श्रावकाचार. 4.सिंह, महेंद्रनाथ (2004). बौद्ध तथा जैन धर्म. वाराणसी, विश्वविद्यालय प्रकाशन. पृ. 159-160.

Author : Ashok Chaudhary
Loading...

Share With

Tag With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING