loading...

गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी के तले दब गया है आजादी

  • 11 December,2018
  • 256 Views
गरीबी, अशिक्षा, बेरोजगारी के तले दब गया है आजादी

नई दिल्ली: 

केशरिया है त्याग हमारा, सादा है सच्चाई, हरा रंग है हरी हमारी धरती की अंगड़ाई। यह पंक्ति आजादी के प्रतीक तिरंगे के लिए एकदम फिट बैठता है। यह हमारे देश के क्रांतिकारियों के बलिदान से लेकर किसानों की मेंहनत को बखूबी सार्थक करता है। लेकिन यह हमारी बिड़बना है कि आजादी के इतने सालों बाद भी आम आदमी के मन में यह सवाल उठता है कि उनके लिए आजादी के मायने क्या हैं? एक तरफ सरकार आम लोगों को भोजन और रोजगार की गारंटी दे रही है तो दूसरी तरफ देश के कई इलाकों में अब भी बहुसंख्य जनता भुखमरी की शिकार है। देश के किसान आत्महत्या करने को मजबूर है। हर तरफ लूट खसोट मची है, घोटालों और भ्रष्टाचारों से देश की जनता त्रस्त हो चुकी है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या हमारे देश के वीर शहीदों ने इसी भारत का सपना देखा था? बिल्कुल नहीं…। देश के अमर सेनानियों ने जिस भारत की कल्पना की थी वो आत्मनिर्भरता था। वह समानता और भाईचारे पर आधरिता था।

 

 

हमेशा की तरह हम इस साल भी स्वतंत्रता दिवस बड़ी तामझाम के साथ मनायेंगे। जाहिर सी बात है, भव्य कार्यक्रम होंगे नयी-नयी घोषणाएं होंगी और देशवासियों के सामने फिर से कई तरह के बड़े-बड़े वायदे होंगे। उपलब्धियों की वाहवाही होगी और आतंकवादियों, चरमपंथियों को फिर एक कड़ी चेतावनी दी जायेगी। फिर जैसे ही आयोजन खत्म होगा, सबकुछ पहले जैसा हो जायेगा। तमाम वादे भुला दिए जायेंगे और सबकुछ बेखौफ चलता रहेगा। यही वजह है कि आजादी की 70वीं वर्षगांठ के हर्षोल्लास के माहौल में भी मन में पूरी तरह खुशी महसूस नहीं होती। एक खिन्नता रहती है, लगता है जैसे आज भी कुछ अधूरा है। कहने को तो हम आजाद हो गये हैं, लेकिन दिल पर हाथ रखकर ये पूछा जाये तो पता चलता है कि हम सही मायने में आजाद नहीं हो पाये हैं। पहले अंग्रेजों के हाथो गुलाम थे आज अपनों के हाथों गुलाम हैं।

 

 

आजाद देश उसे कहते हैं, जहां खुली साफ हवा में अपनी मर्जी से सांस ले सके, कुदरत के दिए हुए हर तोहफे का अपनी हद में रहकर इस्तेमाल कर सके, जहां अधिकारों और कर्तव्यों का बराबरी से निर्वाह किया जाये। लेकिन यहां तो कहानी ही उलटा है। आम आदमी के लिए यहां न पीने का साफ पानी है न खुली साफ हवा, न खाने को भोजन है, न सोने को घर, कर्तव्यों पर अधिकार हावी है, फिर भी हम आजाद हैं। देश का पीडि़त और उपेक्षित समुदाय अपने-अपने तरीके से संघर्ष कर रहे हैं। जिसे देश के कई भागों में देखा जा सकता है। कहीं आरक्षण की मांग हो रही है तो कहीं आरक्षण के अंदर आरक्षण की, कहीं अलग राज्य को विशेष दर्जा देने की मांग हो रही है तो कहीं दूसरे अधिकारों की। देश का कोई भी इलाका इस तरह की मागों से अछूता नहीं है। बात यहीं तक सीमित नहीं है। आजादी के बाद कई चीजें आम आदमी से दूर हो गयी, जो उनके मूल अधिकारों में शामिल होनी चाहिए थी। आजादी के इतने साल बाद भी देश की 76 फीसदी जनता 20 रुपये से कम पर गुजारा करने को मजबूर है। हम आज भी करोड़ों लोगों को उनके सिर पर एक अदद छत तक मुहैया नहीं करा पाये हैं।

 

 

प्रशासन और आम आदमी के बीच एक खतरनक स्तर की गैपिंग हो चुकी है जिससे हर तरफ भ्रष्टाचार का दानव विकराल रूप धारण कर रहा है। लोग आज भी भूख से मर रहे हैं। जनता महंगाई से पिस रही है, लेकिन सरकार के पास इससे निपटने के लिए कोई योजना नहीं है। साफ है कि दिनोंदिन विकास की पटरी पर चढ़ते भारतवर्ष में आम जनता अपनी हालत पर आंसू बहाने को मजबूर है। दरअसल आजादी के इतने सालों तक हमारे शासक वर्ग ने आज तक जनता से सिर्फ झूठे वादे ही किए और झूठी कसमें खायी है। समस्या के समाधान के नाम पर एक के बाद एक नयी समस्या खड़ी की गयी। साल दर साल आम आदमी हाशिये पर खड़ा होता गया। आज आम आदमी के पास आजादी का जश्न मनाने को कुछ भी नहीं बचा है। वह किस चीज पर गर्व करके आजादी का जश्न मनाये?

 

 

वास्तव में किसी भी देश की जनता की खुशहाली उस देश की प्रगति एवं संपन्नता का एक मात्र सूचकांक है। लेकिन इन सबसे बेखबर हमारा शासक वर्ग खुद के बनाये विकास के आंकड़ों से वाहवाही लूट रहा है। देश के जितने भी नेता है वो अपनी तरिके से विकास के पैमाने को मापते हैं। सभी कहते हैं कि उनके राज्य की स्थिति बेहतर है। ऐसे में यहां एक बड़ा सवाल खड़ा होता है कि अगर सभी की स्थिति बेहतर है तो फिर गरीब कौन है। पूरे देश में अपराधों का ग्राफ क्यों बढ़ता जा रहा है। यह कुछ ऐसे सवाल है जो हमारे देश के नेताओं को आड़े हाथ लेता है। आज जरूरत है अत्मंथन करने की। समाज के उस तबके के बारे में सोचने की जो सचमुछ में पिछड़ा है। पूरे देश के लोगों के पेट को भरने वाले किसानों के बारे में सोचने की, जिनके कंधों में देश का भविष्य है वैसे युवाओं के भाविष्य को सुनिश्चित करने की, भूख, गरीबी, कुपोषण, असहाय, अशिक्षा, बेरोजगारी जैसी चुनौतियों के लिए ठोस नीति

बनाने की। जब तक ऐसे तमाम पहलुओं पर विचार और इनके विकास के ठोस कदम नहीं उठाये जायेंगे, हम सही मायने में आजाद नहीं हो सकते है और न ही क्रांतिकारियों के सपनो का भारत बना सकते हैं।

 

 

युवाओं के लिए बदल गये हैं आजादी के मायने
जहां एक ओर हमारी सीमाओं की रक्षा के लिए वीर जवान दिन रात मुसतैद रहते हैं, वहीं दूसरी और देश में नौ जवानों की नयी पीढ़ी तैयार हो रही है। हमारा देश युवा है। यहां 65 प्रतिशत जनसंख्या युवाओं की है, जो आने वाले कल में देश की प्रगति में अपनी अहम भूमिका निभायेंगे, लेकिन आज का युवा इंटरनेट की दुनिया में कहीं खो सा गया है। दिन रात वो फेसबुक, ट्विटर, वाट्सएप की चकाचौंध में खोया हुआ है क्या वह भी देश के लिए भी कुछ सोचता है। क्­या उनके जेहन में भी भगत सिंह, सुभाष चन्­द्र बोस की तरह वही जज्­बा है, जो देश के प्रति उन्­हें कुछ करने के लिए प्रेरित करता हो। ऐसा क्यों है कि 15 अगस्त और 26 जनवरी पर ही हम अपने को भारतीय महसूस करते हैं? मातृभूमि के प्रति गर्व और देशभक्ति इन्­हीं दिनों में ही हमारे दिल में क्यों आती है। चक दे इंडिया का नारा केवल भारत और पाकिस्­तान के मैच में ही क्­यों सुनायी देता है। ये कुछ ऐसे सवाल है, जिनका जवाब तो केवल आज का युवा ही दे सकता है। इस बात के जवाब में मैंने कुछ युवाओं से बात की। इस क्रम में एक विद्यार्थी का कहना है कि आज आजादी के मायने बदल चुके हैं हमें देश में न सिर्फ बोलने की आजादी है बल्­की हमें सुनने की भी उतनी ही आजादी है। आज अगर देश कोई कदम आगे बढ़ाता है तो वह किसी एक की मर्जी नहीं होता बल्­की देश के हर नागरिक का वह फैसला होता है। दूसरे विद्यार्थी का कहना था कि आजादी का मतलब हमें सारे अधिकार मिलना नहीं, बल्­की उन्­हें प्रयोग करना भी है। आज हमें अपनी मर्जी से चीजे चुनने की आजादी है। जहां तक देश भक्­तों की बात की जाये हम उनकों याद करते हैं और हमारे अं­दर देश के प्रति कुछ करने का जज्­बा भी है। मगर हम पढ़ इसलिए रहे हैं कि अच्­छी जॉब मिले। वहीं एक और विद्यार्थी का कहना था कि आज हम आजादी वाले दिन ही अमर शहीदों को याद करते हैं, बाकी दिन नहीं। विदेशी संस्­कृति को भी हम उतनी तेजी से अपनाते जा रहे। जिसको बाहर करने के लिए हमारे जवानों ने अपनी जान दे दी। स्­कूलों में हमें देश भक्­तों के बारे में पढ़ाया तो जाता है मगर कॉलेज में जिस तरह से आगे बढ़ने की होड़ लगी हुई है। इसकी ओर कोई ध्­यान नहीं देता।
अगर देखा जाये तो आज का युवा देश के बारे में सोचता तो है वह देश में उठ रहे मुद्दो को सुनता भी है, मगर सबसे ज्­यादा जरूरी है उसको ऐसा मंच मिलना जहां वह अपनी देश भक्ति की भावनाओं को खुल कर कह सके न कि देश की आजादी को याद करने के लिए उसे 15 अगस्­त और 26 जनवरी के आने का इंतजार करना पड़े।

Author : Ashok Chaudhary
Loading...

Share With

Tag With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING