loading...

महाशिवरात्रि सोमवार को… अद्भुत बना संयोग, जानिए… शुभ मुर्हूत्त और पूजन विधि

  • 03 March,2019
  • 110 Views
महाशिवरात्रि सोमवार को… अद्भुत बना संयोग, जानिए… शुभ मुर्हूत्त और पूजन विधि

बस्ती:  महाशिवरात्रि परम कल्याणकारी व्रत है जिसके विधिपूर्वक करने से व्यक्ति के दुःख, पीड़ाओं का अंत होता है और उसे इच्छित फल की प्राप्ति होती है। पति-पत्नी, पुत्र-पुत्री, धन, सौभाग्य, समृद्धि व आरोग्यता प्राप्त होती है। पूजन करने वाला मोक्ष को प्राप्त करने के योग्य बन जाता है। महाशिवरात्रि का व्रत प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष चतुदर्शी तिथि 04 मार्च 2019 को है।

गोबरांय निवासी पौराणिक कथा व्‍यास आनन्‍दमूर्ति आलोक जी महाराज ने कहा कि इस बार महाशिवरात्रि सोमवार को पड़ने से अत्यंत शुभ मानी जा रही है। सोमवार शिव जी का ही दिन होता है और उस दिन की महाशिवरात्रि अत्यंत शुभ संकेत लेकर आ रही है। शिवजी का मूल मंत्र जो संस्कृत के 5 शब्दों से मिलकर बना है, सब मंत्रों में शुभ व पवित्र माना जाता है। व्रत रखने वाले व्यक्तियों को शिव-मंत्र का उच्चारण अवश्य करना चाहिए। ऐसा करने से अनेक प्रकार की सात्विक और पवित्र ऊर्जा का शरीर में समावेश होता है।

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान शिव तो मात्र बेल पत्र चढ़ाने से भी खुश होकर अपने भक्तों की मुराद पूरी करते हैं। यहां हम आपको बता रहे हैं ऐसी ही चीजों के बारे में जिन्हें भगवान शिव को अर्पित कर आप उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं।

इस बार महाशिवरात्रि पर दुर्लभ संयोग बन रहा है। इस साल महाशिवरात्रि सोमवार को है। सोमवार का स्वामी चन्द्रमा है।

ज्योतिष शास्त्र में चन्द्रमा को सोम कहा गया है। सोमवार को महाशिवरात्रि का होना बहुत ही शुभ माना गया है। सोमवार को शिवजी की पूजा करने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं।

महाशिवरात्रि व्रत फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को किया जाता है। इस व्रत को अर्धरात्रिव्यापिनी चतुर्दशी तिथि में करना चाहिए। इस वर्ष चार मार्च सोमवार को दिन में शाम चार बजकर 35 मिनट से चतुर्दशी लग रही है। जो मंगलवार पांच मार्च को सायं छह बजकर 40 मिनट तक रहेगी।

अर्धरात्रिव्यापिनी ग्रह होने से चार मार्च को ही महाशिवरात्रि मनाई जाएगी। सोमवार महाशिवरात्रि पर सूर्य चंद्रमा शिव योग बना रहे हैं। ये योग सोमवार को दोपहर एक बजकर 43 मिनट से शुरू हो रहा है।

इस बार चार मार्च को महाशिवरात्रि सोमवार को श्रवण नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्धि योग के दुर्लभ संयोग में आने से विशेष कल्याणकारी मानी जा रही है।

सालभर में हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन आने वाली शिवरात्रि को सिर्फ शिवरात्रि कहा जाता है। लेकिन फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी के दिन आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। साल में आने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है। इस साल चार मार्च सोमवार को सायं चार बजकर 30 मिनट से चतुर्दशी तिथि लग रही है जो कि पांच मार्च मंगलवार को सायं छह बजे तक रहेगी।

निशिथ व्यापिनी (यानि रात के चार पहर) युक्त फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का व्रत-पूजन किया जाना चाहिए। सनातन हिंदू धर्म में दिन-रात मिलाकर चौबीस घंटे में आठ पहर होते हैं। औसतन एक पहर तीन घंटे का होता है। इसमें से चार पहर दिन और चार रात के होते हैं। इस स्थिति में सूर्यास्त के बाद चतुर्दशी तिथि के योग में चार पहर की पूजा चार मार्च को की जाएगी।

खास बात यह है कि सोमवार भगवान शिव का दिन है। इस दिन श्रवण नक्षत्र और सर्वार्थ सिद्धि योग भी है। यह तीन महासंयोग अद्भुत होने के साथ ही मंगलकारी माना जा रहा है। पुराणों में वर्णन है कि भगवान शिव और मां पार्वती का विवाह इसी दिन हुआ था। भगवान शिव के विवाह में सिर्फ देव ही नहीं दानव, किन्नर, गंधर्व, भूत, पिशाच भी इस विवाह में शामिल हुए थे।

महाशिवरात्रि पर शिवलिंग को गंगाजल, दूध, दही, घी, शहद और शक्कर के मिश्रण से शिवलिंग को स्नान करवाया जाता है। फिर चंदन लगाकर फल-फूल, बेलपत्र, धतूरा, बेर इत्यादि अर्पित किए जाते हैं। शास्त्रानुसार निशिथ व्यापिनी और चतुर्दशी युक्त महाशिवरात्रि को ग्राह्य बताया गया है। इस दिन भगवान शिव की आराधना कई गुना अधिक फल देती है।

इस दिन व्रत रखकर भक्त शिव की आराधना करने से विशेष पुण्य और लाभ कि प्राप्ति होगी। फाल्गुन मास के दिन आने वाली महाशिवरात्रि पर भगवान शिव और पार्वती का शुभ विवाह हुआ था। इसलिए इस त्योहार को महाशिवरात्रि के नाम से जाना जाता हैं।

इन चीजों से करें महादेव की पूजा, मिलेगा मनचाहा वरदान

1. चंदन को बेहद पवित्र माना गया है। कहा जाता है इसे लगाने से दिमाग शांत रहता है। भगवान शिव को भी चंदन बेहद प्रिय हैं इसलिए भोले शंकर को चंदन का तिलक करना चाहिए।

2. अगरू: भगवान शिव की पूजा में अगरू एक विशेष महत्व रखती है। इसे भगवान को अर्पित करने से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं।

3. धतूरा और बेल पत्र: भगवान शिव को बेल पत्र और धतूरा बहुत पसंद हैं। सोमवार और शिवरात्रि पर इन्हें चढ़ाने से भगवान अपने भक्त की हर मुराद पूरी करते हैं।

4. इत्र : भोले शंकर को प्रसन्न करने के लिए इत्र भी चढ़ाया जाता है। इत्र भी भोले शंकर को बहुत पसंद है।

5. भस्म : बेल पत्र के बने भस्म से पूजन, अभिषेक और आरती करने पर भोलेनाथ अपने भक्तों पर विशेष कृपा करते हैं।

6. इस महाशिवरात्रि पर पुत्र प्राप्ति योग भी बन रहा है। दुग्धाभिषेक करने पर भगवान शिव आह्लादित होंगे।

प्राचीन शिव पंचाक्षरी मंत्र इस प्रकार है

नागेन्द्रहराय त्रिलोचनाय

भास्मंगारागाय महेश्वराय

नित्याय शुद्धाय दिगम्बरायतस्मै ‘न’काराय नमः शिवाय ।।1।।

मन्दाकिनी सलिल चंदन चर्चिताय

नंदिश्वाराय प्रमथानाथ महेश्वराय

मंदारापुष्प बहुपुष्प सुपुजिताय

तस्मै ‘म’काराय नमः शिवाय ।।2।।

शिवाय गौरी वादानाब्जवृन्द

सूर्याय दक्षाध्वार नशाकायश्रीनिलाकंठाय वृषभध्वजाय

तस्मै ‘शि’काराय नमः शिवाय।।3।।

वसिष्ठ कुम्भोद्भव गौतामार्य

मुनीन्द्र देवार्चिता शेखाराय

चन्द्रार्कवैश्वनारा लोचनाय

तस्मै ‘व’काराय नमः शिवाय।।4।।

यक्षस्वरुपाय जटाधारायपिनाकहस्ताय सनातनाय

दिव्याय देवाय दिगम्बराय

तस्मै ‘य’काराय नमः शिवाय।।5।।

श्रद्धालुओं में उत्साह

चार मार्च यानी सोमवार को इस बार महाशिवरात्रि होने से श्रद्धालुओं में उत्साह है। शिव मंदिरों की सफाई व रंग-रोगन भी किया जा रहा है। कोलकाता से फूल मंगाए गए हैं। मधु, दही, बेलपत्र, दूध आदि से शिवजी का रुद्रामहाभिषेक किया जाएगा।

प्राचीन है बूढ़ानाथ मंदिर

बूढ़ानाथ मंदिर दशकों पुराना है। महाशिवरात्रि के दिन कई सीसीटीवी लगाए जाएंगे। मंदिर के प्रबंधक बाल्मिकी सिंह के मुताबिक सवा लाख बेलपत्र, दो क्विंटल दूध, 11 किलो मधु, 51 किलो दही के अलावा फूलों से रुद्राभिषेक किया जाएगा। 51 हजार फूल कोलकाता से मंगाए गए हैं।

सुबह चार बजे खुलेंगे मंदिर के पट

आदमपुर स्थित शिव शक्ति मंदिर के पट श्रद्धालुओं के लिए सोमवार की सुबह चार बजे खोला जाएगा, ताकि श्रद्धालु जल अर्पण कर सकें। महंथ अरुण बाबा ने बताया कि प्रसाद के लिए अभी से आठ क्विंटल लड्डू बनाए जा रहे हैं। गेंदा, रजनीगंधा आदि फूल कोलकाता से मंगाए गए हैं। रात्रि में रुद्राभिषेक एवं शिव-पार्वती का विवाह होगा। सोमवार को 10 बजे से 24 घंटे का महामृत्युंजय जाप किया जाएगा। पांच मार्च को चूड़ी, लहठी और सिंदूर चढ़ाए जाएंगे। आदमपुर चौक स्थित शिव मंदिर की रंगाई की जा रही है।

एक दिल समिति निकालेगी बारात

एक दिल समिति द्वारा कई दशकों से शिवजी की बारात निकाली जाती है। रोहित चौधरी ने कहा कि घोड़े, बैलगाड़ी, कई बैंड पार्टियों द्वारा बारात राणी सती मंदिर से निकाली जाएगी। जो स्टेशन चौक, खलीफाबाग होते चुनिहारी टोला में समाप्त हो जाएगी, जहां शिव-पार्वती का विवाह होगा। इसके अलावा शहर के अन्य शिव मंदिरों में महाशिवरात्रि की तैयारी की जा रही है।

तांत्रिक विधि से पूजा किया जाएगा
महाशिवरात्रि पर सोमवार चार मार्च 2019 को जेल रोड के पास गांधी ग्राम स्थित गीता—कृष्ण सदन में व्यापक कार्यक्रम होगा। मुख्य आयोजन तंत्र साधक बाबा आशुतोष प्रभाकर ने कहा कि यहां तांत्रिक विधि से पूजा की जाती है। दो बजे से भगवान शिव का रूद्राभिषेक किया जाएगा। माता पार्वती का भी विशेष पूजन होगा। दोपहर बाद से रात भर पूजा पाठ चलता रहेगा। शिव—पार्वती का विवाह भी समारोहपूर्वक यहां संपन्न कराया जाएगा। इस आयोजन में आकाशवाणी भागलपुर के वरीय डॉ विजय कुमार मिश्र, गीतकार राजकुमार, विजय कुमार वर्मा, कामेश्वर प्रसाद शर्मा, गायक रवि शंकर रवि, मुनू, संजू, रिकू, सूरज, मनोज, राजेश, राम ही पंजा, संजय, दिनेश अग्रवाल और चंद्रकांत आदि लगे हुए हैं। इस दौरान पांच सौ से ज्यादा भक्त यहां आते हैं। महाप्रसाद का​ वितरण होता है। यहां बता दें इस मंदिर में प्रत्येक दिन शिव की तांत्रिक ​विधि से पूजन किया जाता है।

Author : Ashok Chaudhary
Loading...

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING