सूरत हादसे से सबक : गाजियाबाद में आग के खतरे वाले 7 कोचिंग सेंटर किए गए सील

  • 30 May,2019
  • 135 Views
सूरत हादसे से सबक : गाजियाबाद में आग के खतरे वाले 7 कोचिंग सेंटर किए गए सील

नई दिल्ली: सूरत की घटना के बाद जिला प्रशासन ने शहर में चल रहे कोचिंग केंद्रों के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है। पहले दिन मंगलवार को जांच के बाद सात कोचिंग सेंटर को सील कर दिया गया। इसके अलावा इंदिरापुर में एक कोचिंग सेंटर को सील किया गया। कोचिंग संचालकों के पास फायर एनओसी के अलावा जीडीए के मानक भी पूरे नहीं पाए गए।

 

 

शहर में अधिकतर कोचिंग सेंटर इमारतों की सबसे ऊंची मंजिल पर बने हुए हैं। कोचिंग सेंटर को कई भागों में प्लाइबुड से विभाजित करके कक्षाएं बना दी गई हैं। कोचिंग में आने-जाने का रास्ता भी एकमात्र सीढ़ियां ही हैं। एसी लगाकर कोचिंग सेंटर चारों तरफ से बंद कर दिए गए हैं। ऐसे में यदि आग लगने की घटना हो जाए तो इनमें पढ़ने वाले छात्रों के साथ अनहोनी हो सकती है।

 

मंगलवार को सिटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में अभियान चला, पहले दिन के अभियान में सात कोचिंग केंद्रों को सील कर दिया गया। इन केंद्रों ने जीडीए की इजाजत के बगैर सेंटर में निर्माण किया हुआ था।

 

 

इंदिरापुरम में भी कार्रवाई : अहिंसाखंड दो में चल रहे बेकॉन क्लासेज को भी सील कर दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि कोचिंग सेंटर मानक के अनुसार नहीं चल रहा था। जांच में आग लगने पर बचाव का इंतजाम नहीं मिले।

 

 

इन केंद्रों को सील किया गया

प्रूडेन्स कोचिंग सेंटर, राज पैलेस, जीटी रोड
आर्यभट्ट गुरुकुल सेंटर, राज पैलेस, जीटी रोड
अमीश एकेडमी, राज पैलेस, जीटी रोड
केडी कैंपस, थापर प्लाजा, जीटी रोड
श्रेष्ठ आईएएस, कालकागढ़ी चौक, अंबेडकर रोड
बालाजी आईएएस एकेडमी, कालकागढ़ी चौक, अंबेडकर रोड
मन्नत एकेडमी, कालकागढ़ी चौक, अंबेडकर रोड
ये खामियां पाई गईं

आग बुझाने के कोई संसाधन नहीं मिले
अग्निशमन विभाग से एनओसी नहीं ली गई
आग लगने की स्थिति में निकासी की कोई व्यवस्था नहीं
जीडीए के नियमों के विपरीत बनाए गए थे सेंटरों पर कक्ष
अधिकतर कोचिंग सेंटरों के प्रवेश द्वार पर ही बिजली के मीटर और इनवर्टर मिले
सेंटर में प्रवेश और निकासी का एक ही रास्ता मिला, वह भी काफी संकरा था।

 

”कोचिंग सेंटरों को पहले ही अवगत करा दिया गया था कि वह अपनी व्यवस्थाएं दुरुस्त करा लें। अब चेकिंग अभियान पूरे शहर में चलेगा। छात्रों को किन कोचिंग में शिफ्ट करना है, यह कोचिंग संचालक तय करेंगे।”

 

-यशवर्धन श्रीवास्तव, सिटी मजिस्ट्रेट

Author : Ashok Chaudhary

Share With

Tag With

आपके लिए

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING