बेंगलुरु: बीजेपी MLA विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी ने कर्नाटक विधानसभा स्पीकर पद के लिए नामांकन दाखिल

  • Line : kapil patel
  • 30 July,2019
  • 68 Views
बेंगलुरु: बीजेपी MLA विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी ने कर्नाटक विधानसभा स्पीकर पद के लिए नामांकन दाखिल

बेंगलुरु: कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष के पद के लिए भाजपा विधायक विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी ने चुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया| विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी के नामांकन दाखिल के दौरान मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा उनके साथ थे मौजूद थे| रमेश कुमार ने कर्नाटक स्पीकर पद से इस्तीफा दे दिया था|

 

 

CM बीएस येदियुरप्पा के फ्लोर टेस्ट जीतने के बाद सोमवार को कर्नाटक स्पीकर रमेश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया.इससे पहले भाजपा ने विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार को पद छोड़ने के लिए बोल दिया था| अगर वह सोमवार को इस्तीफा नहीं देते हैं तो भाजपा उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाती। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने वॉयस वोट के जरिए विश्वास मत जीता था।

 

 

 

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा ने सोमवार को राज्य विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव के दौरान कहा था कि, प्रदेश में सूखा पड़ा है। मैं किसानों के मुद्दों को संबोधित करना चाहता हूं। मैंने राज्य की ओर से पीएम किसान योजना के तहत लाभार्थियों को 2000 रुपये की 2 किस्तें देने का फैसला किया है। मैं विपक्ष से अपील करता हूं कि हमें मिलकर काम करना चाहिए। मैं सदन से अपील करता हूं कि वे मुझ पर एकमत से विश्वास व्यक्त करें।

 

 

वहीं पूर्व CM और कांग्रेस नेता  सिद्धारमैया ने सरकार को शुभकामनाएं देते हुए कहा था कि, मैं उन परिस्थितियों के बारे में बोल सकता था जिसके तहत येदियुरप्पा सीएम बने। मैं उनके अच्छे काम की कामना करता हूं और उनके इस आश्वासन का स्वागत करता हूं कि वह लोगों के लिए काम करेंगे…कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कहा, हम लोगों के लिए काम करने के लिए चुने गए हैं और हमें ऐसा करने की कोशिश करनी चाहिए। मैंने सीएम के रूप में ऐसा करने का प्रयास किया और एचडी कुमारस्वामी ने भी। उन्होने कहा कि, येदियुरप्पा ने कहा प्रशंसा अभी भी खड़ी है और वह इसे सुधारना चाहते हैं। यह मामला नहीं था। गठबंधन में हमने आम न्यूनतम कार्यक्रम को लागू करने की दिशा में काम किया..

 

 

पूर्व CM और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने सरकार को कहा था कि, येदियुरप्पा दुर्भाग्य से सीएम बने| येदियुरप्पा कभी भी लोगों के जनादेश के साथ सीएम नहीं रहे हैं। जनादेश कहाँ है…? आपके पास 2008, 2018 या अब भी नहीं है। जब उन्होंने शपथ ली तो सदन में 222 विधायक थे, भाजपा के पास बहुमत के लिए 112 विधायक कहाँ थे….? उनके पास 105 सीटें थीं। वह जनादेश नहीं है।

 

 

विधानसभा में जद (एस) नेता  और Ex CM एचडी कुमारस्वामी सरकार को कहा था कि, मैं 14 महीने तक सरकार में रहा। मुझे आपके (बीएस येदियुरप्पा) सवालों के जवाब देने की कोई बाध्यता नहीं है। मुझे अपनी अंतरात्मा की आवाज का जवाब देने की जरूरत है। पिछले 14 महीनों से, सब कुछ दर्ज किया जा रहा था। लोग जानते हैं कि मैंने क्या काम किया है…?

 

 

HD कुमारस्वामी ने कहा,  नरेंद्र मोदी और जेपी नड्डा के लिए भी सत्ता स्थायी नहीं है। हम आपके नंबर को 105 से 100 या उससे कम पर लाने की कोशिश नहीं करेंगे……… आप सूखे की बात करते हैं…..कम से कम अब हम देखते हैं कि आप कैसे काम करेंगे…. हम आप लोगों के सहयोग करने के लिए सहयोग करेंगे.

 

 

 

रविवार को राज्य विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश ने दल बदल कानून के तहत कांगेस-जेडीएस के 14 और बागी विधायकों को अयोग्य करार दे दिया था। अब तक 17 बागी विधायक अयोग्य घोषित हो चुके हैं। बता दें कि इससे पहले कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर ने तीन बागी विधायकों को गुरुवार को अयोग्य घोषित किया था. जिसमें कांग्रेस के दो बागी विधायकों को और एक निर्दलीय विधायक शामिल थे.

 

 

कर्नाटक विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार द्वार निष्कासित किए जाने के बाद जेडीएस-कांग्रेस के 17 बागी विधायक अब कर्नाटक विधानसभा के सदस्य नहीं रहे..17 विधायकों के निष्कासन से बीजेपी ने राहत की सांस ली है, क्योंकि सभी 17 विधायकों को मंत्रीमंडल में शामिल करना आसान नहीं था. कुमारस्वामी सरकार गिरने के बाद कांग्रेस-जेडीएस के सभी बागी विधायक बीजेपी के लिए बोझ बन गए थे.

 

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING