loading...

बुलंदशहर भीड़ हिंसा: आर बी सिंह पटेल ने कहा, आरएसएस और भाजपा के गुण्डे, अब पुलिस के जवानों को भी नहीं बख्श रहे हैं

  • 04 December,2018
  • 92 Views
बुलंदशहर भीड़ हिंसा: आर बी सिंह पटेल ने कहा, आरएसएस और भाजपा के गुण्डे, अब पुलिस के जवानों को भी नहीं बख्श रहे हैं

लखनऊ: अपना दल प्रवक्ता एडवोकेट आर0बी0 सिंह पटेल ने बुलन्द शहर की घटना पर शहीद हुए पुलिस इंस्पेक्टर और उनके परिवार के प्रति दुःख व्यक्त किया| आर0बी0 सिंह पटेल ने कहा कि, उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। आरएसएस और भाजपा के गोरक्षक गुण्डे, कानून के रखवाले पुलिस के जवानों को भी नहीं बख्श रहे हैं| प्राण घातक हमला कर मार रहें हैं, इसका जीता जागता उदाहरण बुलन्दशहर है।

 

 

 

एडवोकेट आर0बी0 सिंह पटेल ने बयान में कहा कि, उ0प्र0 के सीएम रामराज्य की बात कर कानून व्यवस्था को चुस्त दुरूस्त बता रहें हैं और यही भाषा उत्तर प्रदेश के मा0 राज्यपाल जी बोल रहें हैं कि कानून व्यवस्था पहले से बहुत अच्छी हुई है। मैं माननीय मुख्यमंत्री जी से पूंछना चाहता हूं कि सुदृढ़ कानून व्यवस्था की परिभाषा क्या है। यह बुलन्दशहर की घटना कानून व्यवस्था पर कलंक है। जिसमेें सुरक्षा के जवान ही शहीद हो रहें हैं।

 

 

 

उन्होने कहा कि भाजपा सरकार को कानून व्यवस्था पटरी पर लाने के लिए अपने कार्यकर्ताओं को सही रास्ते पर लाना होगा। सरकार से मांग की है कि बहादुर इंस्पेक्टर के आश्रितों को भरपूर सहयोग कर इस घटना की न्यायिक जांच कराई जाय।

 

 

 

राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि,  घटना जो हुई थी, यह निंदाजनक है। मुख्यमंत्री ने जांच के आदेश दिए हैं। मुझे उम्मीद है कि सच्चाई 2 दिनों के आ जाएगा| इस अपराध को करने वाले लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। जो कुछ भी हो सकता है, ऐसी घटनाओं की अनुमति नहीं दी जा सकती

 

 

 

बता दें कि, उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर  में गोकशी के शक में हिंसा ऐसी भड़की तीन गांवों की भीड़ जान लेने पर उतारू हो गई| गोकशी के शक के बाद भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह  और एक आम नागरिक की मौत हो गई. इतना ही नहीं, उपद्रवियों ने पुलिस चौकी फूंक दी और दर्जनों वाहनों को आग के हवाले कर दिया| हालांकि, अब इस मामले में जो एफआईआर दर्ज कराई गई है और चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है

 

 

 

 

बुलंदशहर में कथित गोकशी के बाद हिंसक मामले में 27 लोगों को नामज़द किया गया है| इन पर 17 धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया गया है|भीड़ की हिंसा के मामले में मुख्य आरोपी योगेश राज के साथ-साथ करीब 80 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज है| इनमें से 27 लोग नामजद हैं, वहीं एफआईआर में 60 अज्ञात लोगों का नाम दर्ज है| भीड़ की हिंसा मामले में पुलिस ने अभी तक 4 को हिरासत में लिया है| इस मामले में सब इंस्पेक्टर सुभाष चंद्र ने एफआईआर दर्ज कराई है|

 

 

 

 

एडीजी कानून और व्यवस्था आनंद कुमार ने बताया कि, चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। मुझे अभी तक संगठनों के बारे में पता नहीं है, लेकिन हिंसा में मुख्य आरोपी योगेश राज है, जिसे अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है| सुमित के शरीर से एक गोली बरामद की गई है, जिसकी कल बुल्लंदशहर हिंसा में मृत्यु हो गई थी। अंतिम पोस्ट-मॉर्टम रिपोर्ट बुलेट के बोर का पता लगाएगी।  यह कहना समय से पहले होगा कि यह एक खुफिया विफलता या किसी अन्य एजेंसी की विफलता थी। जांच पूरी होने तक कोई भी पुलिसकर्मी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी

 

 

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर चर्चा के लिए अपने आवास पर आज रात 8:30 बजे अधिकारियों की बैठक बुलाई

 

 

 

 

 

सरकार उचित कदम उठा रही है और जांच के लिए आदेश दिया गया है। अपराधियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी: उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा,

 

 

 

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING