छत्तीसगढ़: भूपेश बघेल ने कहा, जो भी ज़िम्मेदारी नेतृत्व देगी, हम उसका पालन करेंगे

  • Line : kapil patel
  • 14 December,2018
  • 296 Views
छत्तीसगढ़:  भूपेश बघेल ने कहा, जो भी ज़िम्मेदारी नेतृत्व देगी, हम उसका पालन करेंगे

नई दिल्ली: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की बड़ी जीत के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री का चयन करने के लिए राहुल गाँधी से आज शुक्रवार मुलाकात होगी|मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री पद के लिए कमलनाथ के नाम पर अंतिम व आधिकारिक मुहर लगा दी है। लेकिन छत्तीसगढ़ व राजस्थान में सीएम के नाम को लेकर फैसला आना अभी बाकी है। छत्तीसगढ़ में नामचीन चेहरे मुख्मंत्री पद के प्रबल दावेदार हैं, जिनमें मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और डॉ चरणदास महंत का नाम अव्वल है।

 

 

 

 

 

 

छत्तीसगढ़ कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा कि, चुनाव के नतीजों के बाद, पर्यवेक्षक यहां आए और सभी विधायकों के साथ बैठक की। यह पारस्परिक रूप से निर्णय लिया गया कि अंतिम निर्णय कांग्रेस हाई कमांड द्वारा लिया जाएगा। जो भी ज़िम्मेदारी नेतृत्व देगी, हम उसका पालन करेंगे।

भूपेश बघेल

भूपेश बघेल मूल रूप से किसान हैं| भूपेश बघेल का जन्म 23 August 1961 को हुआ था|  भूपेश बघेल कुर्मी समाज से आते हैं।  1980 के दशक में राजनीति की पारी यूथ कांग्रेस के साथ शुरू करने वाले भूपेश बघेल 2000 में छत्तीसगढ़ के अलग राज्य बनने पर पाटन से विधानसभा पहुंचे।

 

 

भूपेश बघेल मध्यप्रदेश में दिग्विजय सरकार  मंत्री रह चुके है। छत्तीसगढ़ गठन के बाद जोगी सरकार में मंत्री रह चुके है| 2003 में सत्ता से बाहर होने पर उन्हें विपक्ष का उप नेता बनाया गया। 2014 में उन्हें छत्तीसगढ़ कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया।  इस बार बघेल ने पाटन सीट से बीजेपी के मोतीलाल साहू को 26.477 मतों से पराजित किया। 2013 में 9343 वोट से भाजपा के विजय बघेल से जीते थे।  बघेल को ओबीसी का बड़ा नेता माना जाता है। छत्तीसगढ़ में ओबीसी की आबादी करीब 36 फीसदी है।

 

 

 

त्रिभुवनेश्वर शरण सिंह उर्फ टीएस सिंहदेव

 

छत्तीसगढ़ विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता रहे त्रिभुवनेश्वर शरण सिंह सरगुजा के राज परिवार से आते हैं और रक्सेल राजवंश के 117वें उत्तराधिकारी हैं। 2008 से ही विधानसभा में अंबिकापुर का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। वे 2013 में चुनाव आयोग में दायर हलफनामे के मुताबिक छत्तीसगढ़ के सबसे अमीर उम्मीदवार थे।

 

 

 

ताम्रध्वज साहू

मोदी लहर के बीच 2014 लोकसभा चुनाव में वो छत्तीसगढ़ से कांग्रेस के अकेला चेहरा थे जो चुनाव जीतने में कामयाब रहे थे। जातिगत राजनीति के मद्देनजर उनकी वर्ग विशेष में खासी पहुंच है। वह कांग्रेस की ओबीसी विंग के अध्य़क्ष है।

 

डॉ. चरणदास महंत

महंत मध्यप्रदेश सरकार में गृहमंत्री और यूपीए-2 में राज्य मंत्री रह चुके हैं। पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने उन्हें मुख्यमंत्री पद का दावेदार बताया था।

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING