प्रमोद सावंत बने गोवा के नए मुख्यमंत्री, 11 मंत्रियों ने ली शपथ 

  • Line : kapil patel
  • 19 March,2019
  • 230 Views
प्रमोद सावंत बने गोवा के नए मुख्यमंत्री, 11 मंत्रियों ने ली शपथ 

नई दिल्ली: गोवा विधानसभा के स्पीकर, प्रमोद सावंत गोवा के नए मुख्यमंत्री बने| जिसका औपचारिक शपथग्रहण समारोह गोवा के राजभवन में हुआ। रात 1.50 बजे सावंत ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। प्रमोद सावंत को गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने पद और गोपनियता की शपथ दिलाई|

 

 

नवनियुक्त गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि, पार्टी ने मुझे बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी दी है, मैं इसे हर संभव तरीके से निभाने की पूरी कोशिश करूँगा। आज मैं जो कुछ भी हूं सब मनोहर पर्रिकर की वजह से हूं। यह वह था जिसने मुझे राजनीति में लाया, मैं आज स्पीकर और सीएम बन गया|

 

 

 प्रमोद सावंत ने राजभवन में राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

 

 

 

महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी (MGP)  के मनोहर अजगांवकर और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (Goa Forward Party) के विनोद पल्येकर सहित 11 नेताओं ने भी राजभवन में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।

 

एमजीपी के  मनोहर अजगांवकर, बीजेपी के मौविन गोडिन्हो, विश्वजीत राणे, मिलिंद नाइक और नीलेश कैबरल, गोवा फॉरवर्ड पार्टी के विनोद पल्येकर और जयेश सालगांवकर और निर्दलीय विधायक रोहन खैतान और गोविंद गावड़े ने भी राजभवन में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली।

 

 

नवनियुक्त गोवा के सीएम प्रमोद सावंत ने कहा कि, मुझे सभी सहयोगियों के साथ एक स्थिरता और आगे बढ़ना है। अधूरे कामों को पूरा करना मेरी जिम्मेदारी होगी। मैं मनोहर पर्रिकर जी के जितना काम नहीं कर पाऊंगा लेकिन जितना संभव हो सके काम करने की कोशिश करूंगा।

 

 

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के रविवार को हुए निधन के बाद से यह पद खाली था| मनोहर पर्रिकर का कैंसर की बीमारी से जूझते हुए 63 साल की उम्र में रविवार को निधन हो गया था| सोमवार को उन्हें राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। मनोहर परिकर के निधन के बाद गोवा में राजनीतिक संकट शुरू हो गया था। एक ओर जहां कांग्रेस राज्य में सरकार बनाने का दावा पेश कर रही थी तो दूसरी ओर भाजपा के खेमे में भी इसे लेकर चर्चा हो रही थी।

 

 

 

46 वर्षीय सावंत गोवा में भाजपा के अकेले ऐसे विधायक हैं जो आरएसएस कैडर से हैं। मुख्यमंत्री बनने से पहले वह पार्टी के प्रवक्ता और गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे। जब 2017 में भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार बनी तो उन्हें विधानसभा का अध्यक्ष बनाया गया। वह भाजपा सरकार के सबसे पसंदीदा नेता हैं। इस बात का अंदाजा हम इसी बात से लगाया जा सकता है कि परिकर के निधन के बाद जब विकल्प की बात आई तो सबसे पहले उन्हीं का नाम सामने आया।

 

 

सावंत की पत्नी सुलक्षणा केमिस्ट्री की शिक्षिका हैं। वह बीकोलिम के श्री शांतादुर्गा हायर सेकेंड्री स्कूल में पढ़ाती हैं। इसके साथ ही वे भाजपा महिला मोर्चा की गोवा इकाई की अध्यक्ष भी हैं।

 

प्रमोद सावंत आयुर्वेदिक डॉक्टर हैं। उन्होंने आयुर्वेद औषधि में ग्रैजुएशन के बाद पोस्ट ग्रैजुएशन सामाजिक कार्य में किया। इसके अलावा उन्होंने मेडिको-लीगल सिस्टम का भी अध्ययन किया है। राजनीति में वे साल 2008 में आए। वह मापुसा स्थित उत्तरी जिला अस्पताल में आयुर्वेद के डॉक्टर के तौर पर तैनात थे।

 

लेकिन भाजपा नेतृत्व के आग्रह के बाद उन्होंने अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी और भाजपा उम्मीदवार के तौर पर उपचुनाव लड़ा। उन्हें सांकेलिम (अब साखली) सीट से चुनाव लड़ने को कहा गया था। वह इस उपचुनाव में हार गए और लेकिन 2012 में विजेता बनकर उभरे। वह 2017 में चुनाव के बाद दोबारा साखली से निर्वाचित होकर गोवा विधानसभा में आए।

 

उन्हें मनोहर परिकर के नेतृत्व वाली सरकार में 2017 में विधानसभा अध्यक्ष बनाया गया। उन्हें गोवा की राजनीति में सबसे कम उम्र का विधानसभा अध्यक्ष माना जाता है। भारतीय युवा जनता मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष और भारतीय जनता युवा मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रह चुके सावंत को राज्य युवा पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING