चन्द्रदीप घाट, गोंडा: पेड़ सूखने की वजह से ग्रामीण परेशान हैं, प्रशासन को कई बार लगा चुके हैं अर्जी

  • Author : kapil patel
  • 22 April,2019
  • 354 Views
चन्द्रदीप घाट, गोंडा: पेड़ सूखने की वजह से ग्रामीण परेशान हैं, प्रशासन को कई बार लगा चुके हैं अर्जी

गोंडा: फलों के राजा आम का स्वाद बाद मिले, इसके लिए जरूरी है कि पेड़ों की देखभाल सही ढंग से हो| आम का सीजन चल रहा है लेकिन अधिकतर पेड़ों पर दीमक ने हमला बोल दिया है|  जिससे कई पेड़ सूखने के कगार पर पहुँच चुके है| एसे मे एक मामला यूपी के गोंडा जिले से आया है| गोंडा जिले के थाना खोडारे क्षेत्र में आम का पेड़ सूखने से ग्रामीण लोग चिंतित है | यह पेड़ इतना पुराना हैं कि गाँव के बुजुर्गों को भी नही पता है इसकी उम्र क्या है| गाँव के सबसे ज़यादा जो बुजुर्ग है उनको भी नही पता है कि यह पेड़ कब का है|

 

 

यह पेड़  चन्द्रदीप घाट के श्री राम जानकी मंदिर ग्राम पंचायत बस्तीखास में स्थित है| बस्तीखास के ग्रामीणो का कहना हैं कि हम लोग बहुत दूर-दूर गये हैं..लेकिन आज तक इतना बड़ा आम का पेड़ नही देखे हैं| उन्होने कहा कि दुःख इस बात का हैं कि आज तक कई बार प्रशासन को शिकायत कि गयी..लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नही हुई हैं|

 

 

यहा के ग्रामीण सुमिरन यादव , मीर खान, रमेश वर्मा का कहना हैं कि हम लोगों ने इसकी जानकारी दी है प्रशासन को दी हैं| लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई| उन्होने कहा कि इस पेड़ से गाँव वालों का बहुत लगाव है| हमने कई उपाय किए है फिर भी कई असर नही हो रह है| आम का पेड़ कितना पुराना है पूछे जाने परग्रा मीणो का कहना हैं कि हमें नही पता है| ग्रामीण निवासी आज तक किसी ने इसकी उम्र नही बता पा रहे हैं|

 

 

पेड़ के बगल में श्री राम जानकी मंदिर है| गाँव वाले अक्सर वहाँ पर बैठ करते है| उन्हे इससे बहुत लगाव हो गया है | जिससे पड़े को सुखते हुए देख कर बहुत ही आहत है| गाँव वालों ने प्रशासन ,पुरातत्व विभाग, और वन विभाग से अनुरोध किया है| पेड़ को सूखने से बचाया जाए|

 

 

पर्यावरण से पृथ्वी का गहरा नाता है। इस रिश्ते की डोर को सबसे मजबूती से जिसने बांधे रखा है वे पेड़ हैं। लेकिन दरख्तों की बेहिसाब कटाई और कंक्रीट के जंगलों के बीच आज अगर हम छांव को तरसते हैं तो हैरानी नहीं होनी चाहिए क्योंकि इन हालातों के जनक भी हम ही हैं।

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING