अन्ना हजारे ने लगाया आरोप, भाजपा ने 2014 लोकसभा चुनाव जीतने के लिए मेरा किया इस्तेमाल, मोदी सरकार देश को तानाशाही की तरफ ले जा रही हैं

  • Line : kapil patel
  • 05 February,2019
  • 238 Views
अन्ना हजारे ने लगाया आरोप,  भाजपा ने 2014 लोकसभा चुनाव जीतने के लिए मेरा किया इस्तेमाल, मोदी सरकार देश को तानाशाही की तरफ ले जा रही हैं

नई दिल्ली:  पिछले छह दिनों से अनशन पर बैठे सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने सोमवार को भाजपा पर  आरोप लगाया कि 2014 का लोकसभा चुनाव जीतने में उसने उनका इस्तेमाल किया गया था | उन्होंने आरोप लगाया कि उनके 2011 और 2014 के आंदोलन में उनके साथ खड़े होनेवाले लोगों ने उन्हें धोखा दिया और उनकी मांगों पर पिछले 5 सालों में कोई वायदा पूरा नहीं किया गया|

 

अन्ना हजारे ने कहा कि यह उनका लोकपाल आंदोलन था, जिसने भाजपा और AAP को सत्ता में पहुंचा दिया। कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने सोमवार को कहा कि 2014 के लोकसभा चुनाव जीतने के लिए उनका उपयोग “भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)” द्वारा किया गया था।

 

अन्ना हजारे ने कहा , हाँ,  भाजपा ने 2014 में मेरा इस्तेमाल किया। हर कोई जानता है कि लोकपाल के लिए यह मेरा आंदोलन था जिसने भाजपा और आम आदमी पार्टी (आप) को सत्ता में पहुंचा दिया। अब मैंने उनके लिए सभी संबंध खो दिए हैं, ”हजारे ने अपने रालेगण-सिद्धि गांव में मीडिया को बताया।

 

 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार “देश के लोगों को केवल गुमराह कर रही है और देश को निरंकुशता की ओर ले जा रही है” और कहा कि भाजपा की अगुवाई वाली महाराष्ट्र सरकार पिछले चार वर्षों से “झूठ” बोल रही थी।“आखिर कब तक झूठ चलता रहेगा….? इस सरकार ने देश के लोगों को नीचा दिखाया है। राज्य सरकार का दावा है कि मेरी 90 प्रतिशत माँगें भी गलत हैं,

 

अन्ना ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार भी बीते चार सालों से राज्य की जनता से झूठ पर झूठ बोल रहे हैं. यह झूठ ज्यादा दिनों तक नहीं चलेगा. केंद्र और राज्य सरकार ने देश की जनता के भरोसे को तोड़ा है.

 

उन्होंने कहा कि अब वही लोग जो 2011 और 2014 में उनके आंदोलन से लाभान्वित हुए थे, उन्होंने अपनी मांगों से मुंह मोड़ लिया था और पिछले पांच वर्षों में उन्हें लागू करने के लिए कुछ नहीं किया गया।

 

 

अन्ना हजारे ने कहा, “वे कहते हैं कि केंद्र और राज्य सरकार के मंत्री आएंगे और मेरे साथ मुद्दों पर चर्चा करेंगे। लेकिन मैं उन्हें नहीं कहता क्योंकि यह लोगों को भ्रमित करेगा … उन्हें दृढ़ निर्णय लेने और मुझे लिखित रूप में सब कुछ देने के लिए जैसा कि मैंने उनके आश्वासनों में विश्वास खो दिया है।  मुझे उनपर अब भरोसा नहीं रहा है यही वजह है कि मुझे अब हर चीज लिखित में चाहिए|

 

 

एक सवाल के जवाब में, हजारे ने कहा कि उनके पूर्व सहयोगी अरविंद केजरीवाल – अब दिल्ली के मुख्यमंत्री – का उनके राजनीतिक आंदोलन में शामिल होने का स्वागत है। “लेकिन मैं उसे मेरे साथ मंच साझा करने की अनुमति नहीं दूंगा।”अपने  स्वास्थ्य पर बढ़ती चिंता के बीच, हजारे ने कहा,  “चिंता मत करो। मैं ठीक हूँ। सर्वशक्तिमान मेरे साथ है। अगले पाँच दिनों तक मुझे कुछ नहीं होगा। ”

 

 

 

हजारे ने केंद्र में लोकपाल और महाराष्ट्र में लोकायुक्त की तत्काल नियुक्ति और किसानों के मुद्दों के समाधान के लिए बुधवार को अहमदनगर जिले में स्थित अपने पैतृक गांव रालेगण सिद्धि में अनशन शुरू किया था|  हजारे ने रविवार शाम कहा, “अगर यह सरकार अगले कुछ दिनों में देश से किए अपने वायदों को पूरा नहीं करती है तो, मैं अपना पद्म भूषण लौटा दूंगा|  उन्होंने कहा, “मोदी सरकार ने लोगों के विश्वास को तोड़ा है| बता दें कि,  81 वर्षीय कार्यकर्ता को 1992 में तीसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान दिया गया था|

 

 

 

मुंबई कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष संजय निरुपम ने कहा, आख़िर अन्नाहजारे ने स्वीकार कर लिया कि 2014 में BJP ने उनका इस्तेमाल किया था। आज उनकी भूख हड़ताल का 6ठा दिन।लेकिन सरकार में बैठे अहसान फ़रामोश लोग तमाशबीन बने बैठे हैं। कोई नहीं।निष्ठुरता के सिर्फ 2 महीने बचे हैं।

 

 

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING