छत्तीसगढ़: राजनांदगांव इलाक़े में नक्सलियों ने किया हमला, IED ब्लास्ट में ITBP का एक जवान घायल 

  • Author : kapil patel
  • 18 April,2019
  • 198 Views
छत्तीसगढ़: राजनांदगांव इलाक़े में नक्सलियों ने किया हमला, IED ब्लास्ट में ITBP का एक जवान घायल 

छत्तीसगढ़:   लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण का मतदान जारी है वही दूसरी तरफ़ खबर आ रही कि छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव इलाक़े में नक्सलियों ने हमला कर दिया है|  राजनांदगांव में नक्सलियों द्वारा किए गए IED ब्लास्ट में एक आईटीबीपी (ITBP) जवान घायल हो गया|

 

आईटीबीपी रोड ओपनिंग पार्टी (आरओपी) पर छत्तीसगढ़ में राजनांदगांव के कोरचा और मानपुर रोड  के बीच आज सुबह 11: 00 बजे IED ब्लास्ट हुआ। IED ब्लास्ट में ITBP कांस्टेबल मान सिंह को मामूली चोटें आईं। वह खतरे से बाहर है और उसी क्षेत्र में प्राथमिक चिकित्सा के के बाद ड्यूटी पर लौट आए हैं। क्षेत्र में मतदान चल रहा है|

 

इससे पहले आज ही दंतेवाड़ा के SP अभिषेक पल्लव ने बताया, “BJP विधायक भीमा मंडावी तथा पांच पुलिसकर्मियों पर जानलेवा हमले में शामिल एसीएम वर्गीज (ACM Vargese) सहित 2 नक्सली मार गिराए गए हैं| कुआकोंडा पुलिस थाना सीमा के अंतर्गत धनीकर्का के वनक्षेत्र में जिला रिज़र्व गार्ड (DRG) के साथ गुरुवार को हुई मुठभेड़ में इन्हें ढेर किया गया| दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्लव का कहना है क़ि वे एक बड़े ऑपरेशन को अंजाम देने के इरादे से आईईडी लगाने आए थे।  तो यह (मुठभेड़) एक बड़ी कामयाबी है| हथियार भी बरामद कर लिए गए हैं।

 

बता दें कि छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने भाजपा विधायक भीमा मंडावी काफिले पर हमला कर दिया था| दंतेवाड़ा नक्सली हमले में बीजेपी MLA भीमा मंडावी समेत 5 की मौत हो गई थी| आईईडी विस्फोट में भाजपा विधायक भीमा मंडावी समेत उनके ड्राइवर और 3 पीएसओ की मौत हो गई थी|

 

घटना के तुरंत बाद छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एक उच्च स्तरीय बैठक बुलाई थी। हमले पर दुख व्यक्त करते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा था कि, हमारे विधायक साथी भीमा मंडावी और चार जवान नक्सली हमले का शिकार हुए हैं। झीरम हमले के बाद संसदीय लोकतंत्र पर यह एक और बड़ा और अत्यंत निंदनीय हमला है। मैं बेहद विचलित हूं, स्तब्ध हूं। दुःख व्यक्त करने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं।

 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा था कि, इस पीड़ा को हमसे ज्यादा कौन समझेगा जिन्होंने अपने नेताओं की एक पूरी पीढ़ी एक बड़े नक्सल हमले में खो दी थी। हमारी सरकार बस्तर सहित पूरे छग में आदिवासी जनता का विश्वास जीतने के लिए सतत काम कर रही है। इस बात से नक्सली बौखला रहे हैं। यह जघन्य वारदात उनकी इसी बौखलाहट का नतीजा है।

 

उन्होने कहा था कि, हम एक बार फिर दृढ़ता के साथ संसदीय लोकतंत्र को मजबूत करने की अपनी लड़ाई के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को दोहराते हैं। मैं शीर्ष अधिकारियों के साथ घटना की समीक्षा कर रहा हूं। मैंने अधिकारियों के लिए निर्देश दोहराया है कि नक्सली गोलियों का जवाब उनकी भाषा में ही दिया जाएगा।

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING