यौन शोषण के आरोपों पर घिरे CJI रंजन गोगोई बोले: न्यायपालिका गंभीर खतरे में है, आरोप लगाने वाली महिला के पीछे बड़ी ताकत है

  • Line : kapil patel
  • 20 April,2019
  • 429 Views
यौन शोषण के आरोपों पर घिरे CJI रंजन गोगोई बोले: न्यायपालिका गंभीर खतरे में है, आरोप लगाने वाली महिला के पीछे बड़ी ताकत है

नई दिल्ली:   भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के एक पूर्व कनिष्ठ सहायक द्वारा की गई यौन उत्पीड़न की शिकायत की ऑनलाइन मीडिया रिपोर्ट के बाद सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने अपने ऊपर लगे यौन शोषण के आरोप को खारिज कर दिया है| उन्होंने साफ तौर पर कहा है कि वह इन आरोपों का जवाब नहीं देना चाहते। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा है कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता बहुत गंभीर खतरे में है|

 

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने अपने ऊपर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर कहा है कि ,न्यायपालिका की स्वतंत्रता बहुत गंभीर खतरे में है और न्यायपालिका को अस्थिर करने के लिए एक “बड़ी साजिश” है। उनका कहना है कि यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने वाली महिला के पीछे कुछ बड़ी ताकत है।

 

भारत के मुख्य न्यायाधीश कहते हैं, “न्यायपालिका की स्वतंत्रता गंभीर खतरे में है, लगाए जा रहे आरोपों से बहुत आहत हैं। 4 मीडिया हाउस ने बड़ी विस्तार से कहानियाँ प्रकाशित की हैं। मुझे उनसे संवाद प्राप्त हुआ।” CJI रंजन गोगोई के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों की मीडिया रिपोर्ट पर CJI की अगुवाई वाली पीठ ने आरोपों पर कोई आदेश पारित नहीं किया और न्यायपालिका की स्वतंत्रता की रक्षा के लिए मीडिया को संयम दिखाने के लिए कहा। सीजेआई का कहना है कि आरोप बेबुनियाद हैं।

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING