फ्रांस के समाचार पत्र  ‘The Le Monde’ में हुआ खुलासा,  नए राफेल सौदे की घोषणा के बाद, फ्रांस ने अनिल अंबानी से संबंधित 143.7 मिलियन यूरो का कर माफ : कांग्रेस  

  • 13 April,2019
  • 113 Views
फ्रांस के समाचार पत्र  ‘The Le Monde’ में हुआ खुलासा,  नए राफेल सौदे की घोषणा के बाद, फ्रांस ने अनिल अंबानी से संबंधित 143.7 मिलियन यूरो का कर माफ : कांग्रेस  

नई दिल्ली:  राफेल के मुद्दे ( Rafale fighter jets CAse) पर एक बार फिर से कांग्रेस ने मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की है| कांग्रेस की ओर से रणदीप सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala)  ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राफेल को लेकर मोदी सरकार पर राफेल में चोरी करने का आरोप लगाया और एक बार फिर से कहा कि चौकीदार ने चोरी की है| उन्होंने कहा कि एक फ्रांसीसी अखबार ने आज एक सनसनी-खेज खबर दी   है।  23 मार्च, 2015 को अनिल अंबानी ने फ्रांसीसी रक्षा अधिकारियों से मुलाकात की  है| नए राफेल सौदे की घोषणा के बाद फ्रांस ने अनिल अंबानी की कंपनी 143.7 करोड़ यूरो का कर माफ किया था|

 

एक फ्रांसीसी अखबार के हवाले से रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि- आज फ्रांस के समाचार पत्र  ‘The Le Monde’ में खुलासा हुआ। क्या राफेल घोटाले में भ्रष्टाचार की मनी ट्रेल सामने आ गई…? क्या मोदी अपने मित्र AA (Anil Ambani ) के लिए मिडिल मैन का काम कर रहे हैं…? क्या फ्रांस सरकार ने AA (अनिल अंबानी ) की 143.7 मिलियन यूरो की टैक्स लाइबिलिटी माफ कर दी|

 

सुरजेवाला ने कहा कि- इस राफेल घोटाले में 5 चीजें बहुत महत्वपूर्ण है। 23 मार्च 2015 को मोदी जी के मित्र अनिल अंबानी पेरिस जाकर रक्षा मंत्रालय 7 में रक्षा मंत्री के सलाहकार और दूसरे अधिकारियों से मिलते हैं। तब तक 128 राफेल बनाने का कॉन्ट्रैक्ट देश की सरकारी कंपनी HAL के पास था|

 

सुरजेवाला ने कहा कि- 8 अप्रैल 2015 को मोदीजी के फ्रांस जाने से 48 घण्टे पहले विदेश सचिव बताते हैं कि मोदी जी जहाज की चर्चा नहीं करने वाले, HAL ही ये जहाज बनाएगी। 10 अप्रैल 2015 को मोदीजी अकेले फ्रांस जाते हैं और 128 जहाजों की सस्ती डील को कूड़ेदान में डाल देते हैं| उन्होंने कहा कि 21 सितंबर 2018 को फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद कहते हैं कि हमारे पास कोई विकल्प नहीं था, मोदी जी ने कहा था कि यह 30,000 करोड़ का सौदा HAL से लेकर अनिल अंबानी को देना है|

 

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि हमें ये पता है कि 13 मार्च 2014 तक दसॉल्ट कम्पनी का HAL के साथ 30,000 करोड़ का वर्क शेयर एग्रीमेंट था। ये उन्होंने अपने ट्वीटर हैंडल पर भी लिखा है| एक और बात सामने आई है कि 2017-18 में AA की ‘ज़ीरो सम कंपनी’ में दसॉल्ट एविएशन 284 करोड़ डाल देती है। इस कम्पनी का नाम था रिलायंस एयरपोर्ट डवलपर लिमिटेड। यह तब हो रहा था जब भारत सरकार दसॉल्ट एविएशन को एडवांस पेमेंट कर रही थी

 

उन्होंने कहा कि , मोदी जी 126 जहाज के स्थान पर 36 राफेल विमान और मेक इन इंडिया की जगह मेक इन फ्रांस की घोषणा कर आते हैं। यह लगभग 7.8 बिलियन यूरो की डील है| फ्रांस में अनिल अंबानी की कम्पनी है- रिलायन्स अटलांटिक फ्लैग फ्रांस । 2007-10 के बीच में RAFF (Reliance Atlantic Flag France) पर 60 मि. यूरो की टैक्स डिमांड आ गयी। उन्होंने कहा कि हम तो 7 मि. यूरो ही दे सकते हैं। 2010-12 में 91 मि. यूरो अतिरिक्त कर लगाया गया|

 

सुरजेवाला ने कहा कि, टैक्स प्राधिकरण ने लगभग 150 मिलियन यूरो में से साढ़े सात मिलियन यूरो देने की उनकी पेशकश खारिज कर दी। 10 अप्रैल को मोदी जी फ्रांस जाकर 36 जहाज खरीदने की घोषणा कर आते हैं। इसके बाद फ्रांस सरकार अनिल अंबानी की कंपनी के टैक्स को माफ कर देती है|

 

उन्होंने कहा कि ,पीएम मोदी ने 10 अप्रैल, 2015 को नए राफेल सौदे की घोषणा के बाद, फ्रांस ने अनिल अंबानी से संबंधित 143.7 मिलियन यूरो की कंपनी की कर वसूली को रद्द कर दिया। फ्रांस में कितनी अन्य कंपनियों को कर लाभ मिला है…? क्या यह एयरक्राफ्ट की खरीद के लिए क्विड प्रो क्वो नहीं है…? क्या पीएम मोदी अपने दोस्त अनिल अंबानी के लिए बिचौलिए की तरह काम कर रहे हैं..?

 

 

 

Author : kapil patel

Share With

आपके लिए

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING