भारत गाँवों का देश: देश की साठ-सत्तर प्रतिशत जनसंख्या अब भी गाँवों में ही रहती है

  • Line : kapil patel
  • 18 July,2019
  • 87 Views
भारत गाँवों का देश: देश की साठ-सत्तर प्रतिशत जनसंख्या अब भी गाँवों में ही रहती है

लखनऊ: हमारे देश की साठ-सत्तर प्रतिशत जनसंख्या अब भी गाँवों में ही रहती है । गाँव का जीवन शहरी जीवन से अलग होता है ।यहाँ की आबोहवा में जीना सचमुच आनंददायी होता है । गाँवों में भारतीय संस्कृति के दर्शन होते हैं । यहाँ भारत की सदियों से चली आ रही परंपराएँ आज भी विद्‌यमान हैं । यहाँ के लोगों में अपनापन और सामाजिक घनिष्ठता पाई जाती है । यहाँ खुली धूप और हवा का आनंद उठाया जा सकता है । यहाँ हरियाली और शांति होती है ।

 

 

हमारे गाँव भारत की कृषि व्यवस्था के आधार हैं । यहाँ कृषकों का निवास होता है । गाँव के चारों ओर खेत फैले होते हैं । खेतों में अनाज एवं सब्जियों उगाई जाती हैं । गाँवों में तालाब और नहरें होती हैं । इनमें संग्रहित जल से किसान फसलों की सिंचाई करते है । गाँवों में खलिहान होते हैं । यहाँ पकी फसलों को तैयार किया जाता है ।

 

 

गाँवों में खेती क अलावा पशुपालन, मुर्गीपालन, मधुमक्खी पालन जैसे व्यवसाय किए जाते हैं । पशुपालन से किसानों को अतिरिक्त आमदनी होती है तथा कृषि कार्य में सहायता मिलती है । पशुओं का गोबर खाद का काम करता है । पशु दूध देते हैं तथा बैल, भैंसा आदि पशु हल में जीते जाते हैं । कुछ पशु माल दुलाई में ग्रामवासियों की मदद करते हैं ।

 

 

गाँव का जीवन शांतिदायक होता है । यहाँ के लोग शहरी लोगों की तरह निरंतर भाग-दौड़ में नहीं लगे रहते हैं । यहाँ के लोग सुबह जल्दी जगते हैं तथा रात में जल्दी सो जाते हैं । यहाँ की वायु महानगरों की वायु की तरह अत्यधिक प्रदूषित नहीं होती । यहाँ बाग-बगीचे होते हैं जहाँ के फूलों की सुगंध हवा में व्याप्त रहती है । यहाँ भीड़- भाड़ कम होने से ध्वनि प्रदूषण भी नहीं पाया जाता है ।

 

 

गाँवों में उत्सवों और मेलों की धूम होती है । यहाँ होली, बैशाखी, पोंगल, ओणम, दीवाली, दशहरा, ईद जैसे त्योहार परंपरागत तरीके से मनाए जाते हैं । त्योहारों के अवसर पर लोग आपस में मिलते-जुलते हैं । वे लोक धुनों के नृत्य पर थिरकते हैं । गाँव के लोग आपसी सुख- दु:ख में एक-दूसरे का पूरा साथ देते हैं । गाँव के सभी लोग आपसी भाईचारे से रहते हैं । वे आपसी विवाद को अधिकतर पंचायत में ही सुलझा लेते हैं ।

 

 

भारत के गाँवों में भी अब शहरों की कई सुविधाएँ पहुंच गई हैं । यहाँ बिजली, टेलीफोन, मोबाइल फोन, कंप्यूटर, सड़क, पानी का नल जैसी सुविधाएँ पहुँच रही हैं । वहाँ के किसान आधुनिक कृषि यंत्रों का प्रयोग करने लगे हैं । अब हल बैल के स्थान पर ज्यादातर ट्रैक्टरों से खेतों की जुताई की जाती है । वहाँ भी अब स्कूल, सार्वजनिक भवन तथा अस्पताल हैं । गाँवों की गलियाँ पक्की कर दी गई हैं ।

 

 

गाँवों में खान-पान की जटिलताएँ नहीं हैं । ग्रामवासी सादा भोजन करते हैं । वे ताजा दूध पीते हैं तथा हरी-ताजी सब्जियाँ खाते हैं । पीने के लिए लोग हैंडपंप, कुएँ या नलके के जल का प्रयोग करते हैं । कुछ ग्रामीण नदी-जल से अपनी प्यास बुझाते हैं ।

 

 

हमारे गाँव तेजी से उन्नति कर रहे हैं । ग्रामवासी अपने बच्चों की शिक्षा के प्रति अधिक जागरूक हो गए हैं । ग्रामीण नवयुवक एवं नवयुवतियाँ शहर जाकर उच्च शिक्षा एवं नौकरी प्राप्त करती हैं । गाँव के लोग कृषि के अलावा छोटे-मोटे उद्‌योग चलाकर अपना-अपना निर्वाह कर रहे हैं ।

 

 

शहरी प्रभाव के कारण गाँवों में कुछ बदलाव जरूर दिखाई दे रहे हैं परंतु गाँवों की संस्कृति में मूलभूत अंतर नहीं आया है । गाँव आज भी भारतीय सभ्यता और संस्कृति के आधार स्तंभ हैं|

 

 

 

Tag With

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING