मालेगांव ब्लास्ट पीड़िता के पिता ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ने से रोकने के लिए एनआईए कोर्ट में दी अर्जी

  • Author : kapil patel
  • 18 April,2019
  • 364 Views
मालेगांव ब्लास्ट पीड़िता के पिता ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव लड़ने से रोकने के लिए एनआईए कोर्ट में दी अर्जी

नई दिल्ली: मालेगांव ब्लास्ट पीड़िता के पिता ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को लोकसभा चुनाव लड़ने से रोकने के लिए एनआईए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया| मालेगांव ब्लास्ट में पीड़िता के पिता ने साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के खिलाफ अर्जी दाखिल की है। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से भाजपा का उम्मीदवार बनाए जाने के खिलाफ एनआईए कोर्ट में अर्जी दाखिल की है।

 

पीड़ित के पिता ने अर्जी में स्वास्थ्य का हवाला देते हुए एनआईए अदालत के समक्ष उसकी उम्मीदवारी पर सवाल उठाया है जो उसके जमानत आवेदन में एक कारण था| वही दूसरी तरफ मालेगांव ब्लास्ट केस में आरोपी साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ एक्टिविस्ट तहसीन पूनावाला ने चुनाव आयोग में शिकायत की है। तहसीन ने मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा की उम्मीदवारी पर सवाल उठाते हुए चुनाव आयोग से उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगाने की गुहार की है

 

तहसीन पूनावाला ने अपनी शिकायत में कहा है कि साध्वी प्रज्ञा प्रीवेंशन एक्ट सहित अन्य अपराधों में आरोपी है। इस मामले में करीब नौ वर्ष जेल में रहने के बाद वर्ष 2017 में अदालत ने चिकित्सकीय आधार पर साध्वी प्रज्ञा को जमानत दी थी।  उन्होने”चुनाव आयोग से अनुरोध करते हुए कहा कि  चुनाव आयोग उसे चुनाव लड़ने से मना करे क्योंकि वह एक आतंकवादी आरोपी है”।

 

 

 

 

बता दें कि महाराष्ट्र के मालेगांव के अंजुमन चौक और भीकू चौक पर 29 सितंबर 2008 को बम धमाके हुए थे। इनमें 7 लोगों की मौत हो गई थी और 101 लोग घायल हुए थे। इन धमाके के लिए एक मोटरसाइकिल इस्तेमाल की गई थी। इस मामले की शुरुआती जांच महाराष्ट्र आतंकवाद विरोधी दस्ते ने की थी, जो बाद में एनआईए को सौंपी दी गई थी। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भी एक अभियुक्त हैं। इस मामले में साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित को अक्तूबर 2008 में गिरफ्तार किया गया था। साध्वी प्रज्ञा पर मकोका अधिनियम की विभिन्न धाराएं भी लगाई गई थीं। साध्वी पर मालेगांव ब्लास्ट के साथ ही साथ सुनील जोशी की हत्या का भी आरोप है।

 

मालेगांव धमाका मामले में साध्वी प्रज्ञा समेत सात आरोपियों को अप्रैल 2017 में बॉम्बे हाईकोर्ट जमानत मिल गई थी.आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को 5 लाख के निजी मुचलके पर जमानत मिल चुकी है।

 

 

कौन हैं कर्नल पुरोहित

मालेगांव ब्लास्ट मामले में अभियुक्त बनाए गए कर्नल श्रीकांत पुरोहित का संबंध दक्षिण पंथी संगठन अभिनव भारत से बताया जाता है। बॉम्बे हाइकोर्ट ने एनआईए की रिपोर्ट के आधार पर कहा था, पुरोहित वह हैं जिन्होंने हिंदू राष्ट्र के लिए अलहदा संविधान बनाने के साथ, एक अलग भगवा झंडा बनाया। उन्होंने हिंदुओं पर मुस्लिमों के अत्याचार का बदला लेने पर भी विचार-विमर्श किया।

 

जांच एजेंसियों  ने मामले की सुनवाई के दौरान बताया था कि मालेगांव ब्लास्ट को कथित तौर पर अभिनव भारत नामक दक्षिणपंथी संस्था ने अंजाम दिया था। एनआईए के मुताबिक, पुरोहित ने गुप्त बैठकों में हिस्सा लेकर धमाकों के लिए विस्फोटक तक जुटाने की मदद की थी। इस मामले में 17 अगस्त 2017 को कोर्ट के सामने पुरोहित ने खुद को राजनीति का शिकार होने की बात कही थी।

 

30 अक्टूबर, 2018 को 2008 मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित की याचिका को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) अदालत ने खारिज करते हुए आरोप तय कर दिए गये थे। लेफ्टिनेंट कर्नल पुरोहित और साध्वी प्रजा सिंह ठाकुर  सहित सात दोषियों पर आरोप तय किए गए थे। मालेगांव मामले में सभी सात आरोपियों के खिलाफ गैर-कानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून (UAPA) और आईपीसी की धाराओं के तहत आरोप तय किए गए थे।

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING