मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री ने भाजपा पर साधा निशाना, दुर्भाग्या है, उनकी पार्टी में खुरदुरे चेहरे हैं…जिनको लोग नापसंद करते हैं

  • 27 January,2019
  • 129 Views
मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री ने भाजपा पर साधा निशाना,  दुर्भाग्या है, उनकी पार्टी में खुरदुरे चेहरे हैं…जिनको लोग नापसंद करते हैं

नई दिल्ली: राहुल गांधी ने अपनी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा को सक्रिय राजनीति में जैसे ही उतारा, वैसे ही उनपर राजनीतिक हमले होने शुरू हो गए। कोई उन्हें हुकुम की रानी, ट्रंप कार्ड बता रहा है तो किसी का कहना है कि सुंदर हैं और सुंदरता पर वोट नहीं मिलते हैं।  मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भाजपा पर पलटवार किया|

मध्य प्रदेश सरकार के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि, भाजपा का दुर्भाग्या है की उनकी पार्टी में खुरदुरे चेहरे हैं, ऐसे चेहरे जिनको लोग नापसंद करते हैं. एक हेमा मालिनी है, उसको जगह-जगह शास्त्रिया नृत्या करते रहते हैं, वोट कमाने की कोशिश करते हैं. चिकने चेहरे उनके पास नही हैं.

 

मेरा ये कहना है की ईश्वार के प्रदत्त मानव होता है…अरे सराहना करो की ईश्वार ने प्रियंका गाँधी को इतना सुंदर बनाया है जिससे ममता, स्नेह झलकता है. ऐसे शब्दों का इस्तेमाल करके अपनी गरिमा कैलाश जी और भाजपा गिरा रही है

 

बता दें कि, सक्रिय राजनीति में प्रियंका गांधी वाड्रा के प्रवेश पर भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने प्रियंका गांधी की तुलना चॉकलेटी चेहरा करीना कपूर और सलमान खान जैसे फिल्मी सितारों से की है। शनिवार को उन्होंने कहा था कि, कांग्रेस चॉकलेटी चेहरों के बूते अगला लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है। विजयवर्गीय ने कहा था कि, उनके पास लीडर नही हैं, इसलिए वो चॉकलेटी चेहरे के मध्यम से चुनाव में जाना चाहते हैं|

 

 

बता दें कि, इससे पहले बिहार सरकार में भाजपा के मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा था कि सुंदर चेहरे से वोट नहीं मिल सकते। वह बहुत सुंदर है मगर उनकी कोई राजनीतिक उपलब्धि नहीं है। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी प्रियंका पर बड़ा हमला करते हुए कहा था कि एक दागी जीवनसाथी वाली महिला को लांच करने से अगर कांग्रेस खुश है तो उन्हें यह खुशी मुबारक।

 

 

अब रविवार को सुब्रमण्यम स्वामी ने उन्हें बाइपोलैरिटी का शिकार बताया है। सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रियंका गांधी पर टिप्पणी करते हुए कहा, ‘उसको एक बीमारी है जो सार्वजनिक जीवन में अनुकूल और उपयुक्त नहीं है। उसको बाइपोलैरिटी कहते हैं यानी उसका हिंसावादी चरित्र दिखाई पड़ता है। लोगों को पीटती है। पब्लिक को पता होना चाहिए कि कब संतुलन खो बैठेगी, यह किसी को पता नहीं है।

 

 

 

-कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘कांग्रेस चॉकलेटी चेहरों को चुनाव लड़ना चाहती है’। 

-बिहार सरकार में भाजपा के मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा था कि सुंदर चेहरे से वोट नहीं मिल सकते,

-योगी सरकार के मंत्री उपेंद्र तिवारी ने कहा, ‘लोकसभा चुनाव आते-आते प्रियंका गांधी के लड़के भी राजनीति में आ जाएगें।’

-अब रविवार को सुब्रमण्यम स्वामी ने उन्हें बाइपोलैरिटी का शिकार बताया है

 

 

 

 

 

 

Author : kapil patel

Share With

Tag With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING