ममता बनर्जी की आपत्तिजनक मीम मामले में रिहाई के बाद बीजेपी कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा बोली: नहीं मांगूंगी माफी, मैं लड़ूंगी

  • 15 May,2019
  • 66 Views
ममता बनर्जी की आपत्तिजनक मीम मामले में रिहाई के बाद बीजेपी कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा बोली: नहीं मांगूंगी माफी, मैं लड़ूंगी

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का ‘आपत्तिजनक’ मीम सोशल मीडिया पर शेयर करने के लिए गिरफ्तार भाजपा कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा को मंगलवार के बजाय बुधवार को रिहा किया गया| बीजेपी यूथ विंग की संयोजक प्रियंका शर्मा ने रिहाई के बाद कहा है कि, मैं इस केस को लड़ूंगी। मैं माफी नहीं मांगूंगी

 

 

भाजपा युवा विंग की संयोजक प्रियंका शर्मा ने कहा कि मेरी जमानत को कल दी गई थी , लेकिन फिर भी मुझे एक और 18 घंटे के लिए रिहा नहीं किया गया। उन्होंने मुझे अपने वकील और परिवार से मिलने की अनुमति नहीं दी। उन्होंने मुझसे माफी मांगने का कहा | उन्होंने कहा कि  मैं इस केस को लड़ूंगी। मैं माफी नहीं मांगूंगी| फ़िलहाल  पश्चिम बंगाल पुलिस के खिलाफ इस मामले में जुलाई में सुनवाई शुरू होगी।

 

 

 

बता दें कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का ‘आपत्तिजनक’ मीम सोशल मीडिया पर शेयर करने के लिए गिरफ्तार भाजपा कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा को मंगलवार को रिहा ना करने पर सुप्रीम कोर्ट (SC) ने नाराजगी जाहिर की है| बीजेपी यूथ विंग की संयोजक प्रियंका शर्मा के वकील ने आज यानी बुधवार को  सुप्रीम कोर्ट के समक्ष उल्लेख किया कि प्रियंका अभी तक रिहा नहीं हुई हैं। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है| सुप्रीम कोर्ट ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का’आपत्तिजनक’ मीम सोशल मीडिया साझा करने के लिए गिरफ्तार की गई बीजेपी यूथ विंग की संयोजक प्रियंका शर्मा की रिहाई में देरी पर पश्चिम बंगाल सरकार को को कड़ी फटकार लगाई|

 

 

SC ने कहा है कि अगर उसे रिहा नहीं किया गया तो वह अवमानना ​​का नोटिस जारी करेगी। कोर्ट ने कहा कि पहली नजर में प्रियंका की गिरफ्तारी मनमानी | साथ ही कोर्ट ने कहा कि आधे घंटे में प्रियंका को रिहा किया जाए| हालांकि, पश्चिम बंगाल सरकार के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि ‘प्रियंका शर्मा को आज सुबह 9:40 बजे रिहा किया गया।’ SC की बेंच ने पूछा, ‘उसे तुरंत रिहा क्यों नहीं किया गया…?’

 

 

सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि ये आदेश कल जारी किया गया था, उसे तुरंत रिहा क्यों नहीं किया गया…?’ बंगाल सरकार ने बताया कि ये आदेश शाम पांच बजे मिला था, जेल मैन्यूअल के चलते रिहाई नहीं हो पाई| सुप्रीम कोर्ट ने फटकार लगाते हुए कहा कि क्या जेल मैन्यूअल सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बड़ा है…? सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि वह जुलाई के पहले सप्ताह में बीजेपी यूथ विंग की संयोजक प्रियंका शर्मा के आवेदन पर सुनवाई करेगी, जिसमें पश्चिम बंगाल के पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई थी।

 

 

सुप्रीम कोर्ट में प्रियंका शर्मा के वकील एनके कौल ने कहा है कि “प्रियंका शर्मा को रिहा किया जा रहा है, लेकिन उनकी रिहाई से पहले उन्हें पुलिस द्वारा तैयार किए गए एक माफी पत्र पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया था जिसमें कहा गया था कि वह भविष्य में इसे फिर से पोस्ट नहीं करेगी। प्रियंका शर्मा के वकील एनके कौल ने कहा है कि , मुझे बताया गया है, प्रियंका को बुधवार सुबह 09:40 से 10:00 बजे के बीच छोड़ा गया, और वह भी पुलिस द्वारा तैयार किए गए एक बयान पर हस्ताक्षर करने के लिए। यह अत्यंत विचलित करने वाली प्रवृत्ति को दर्शाता है कि SC के आदेश में कहा गया है कि ‘उसकी रिहाई के बाद ’का 24 घंटे तक पालन नहीं किया गया| यह सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना नहीं तो और क्या है कि 24 घंटे के अंदर आदेश का पालन नहीं किया गया।

 

 

 

मालूम हो कि प्रियंका शर्मा को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का आपत्तिजनक’ मीम सोशल मीडिया पर साझा करने के लिए गिरफ्तार किया गया था। यह फोटो अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा के मेट गाला लुक पर ममता बनर्जी का चेहरा सुपर इम्पोज कर मजाकिया तस्वीर शेयर की थी।  जिसके बाद हावडा पुलिस ने शिकायत के आधार पर FIR दर्ज कर शुक्रवार को उसे गिरफ्तार किया था|

 

 

 

 

Author : kapil patel

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING