जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला पुलिस कस्टडी में लिए गए

  • Line : kapil patel
  • 05 August,2019
  • 77 Views
जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला पुलिस कस्टडी में लिए गए

नई दिल्ली: जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला को हिरासत में लिया गया है। राज्यसभा में सोमवार को जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक पास किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती और नेशनल कॉनफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला को पुलिस कस्टडी में ले लिया गया

 

 

 

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला गिरफ्तार को गिरफ्तारी के बाद श्रीनगर के सरकारी गेस्ट हाउस में रखा गया है। घाटी में धारा 144 लागू है। इससे पहले रविवार रात को महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को उनके आवास पर नजरबंद कर दिया गया था। वहीं आपको बता दें कि घाटी में अभी भी कई नेता नजरबंद हैं, जिनमें सज्जाद लोन समेत कई अलागवादी नेता और राजनीतिक पार्टियों के नेता शामिल हैं।

 

 

रियासी डिप्टी कमिशनर इंदु कंवल चिब ने कहा है कि निजी और सरकारी दोनों स्कूलों, कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों के वर्गीकरण को एहतियात के तौर पर जिले में 6 और 7 अगस्त को निलंबित कर दिया गया है|घाटी में पूरी तरह से मोबाइल, लैंडलाइन, ब्रॉडबैंड समेत सभी इंटरनेट सेवा शनिवार रात से ही बंद कर रखी हैं। वहीं घाटी में सभी अधिकारियों को सैटेलाइट फोन दिए गए हैं, ताकि आपस में बातचीत होती रहे।

 

 

जम्मू-कश्मीर से धारा 370 खत्म करने और जम्मू-कश्मीर का बंटवारा करके केंद्र शासित प्रदेश बाने के ऐलान के बाद पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आज भारतीय लोकतंत्र में सबसे काला दिन है। धारा 370 को रद्द करने का एकतरफा फैसला गैरकानूनी और असंवैधानिक है।

 

 

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट ट्वीट कर कहा कि, आज का दिन भारतीय लोकतंत्र का स्याह दिन है , जम्मू-कश्मीर के नेतृत्व ने 1947 में भारत के साथ जाने का जो फैसला लिया था, वो गलत साबित हो गया | भारत सरकार की धारा 370 को रद्द करने का एकतरफा निर्णय गैरकानूनी और असंवैधानिक है जो भारत को जम्मू-कश्मीर में एक व्यावसायिक शक्ति बना देगा।

 

 

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि, उपमहाद्वीप के लिए इसके भयावह परिणाम होंगे। भारत सरकार के इरादे स्पष्ट हैं। वे जम्मू-कश्मीर का इलाका चाहते हैं कि वहां के लोग आतंकित हों। भारत ने अपने वादों को निभाने में कश्मीर को विफल कर दिया है। हमारे जैसे लोग जिन्होंने संसद में विश्वास रखा, लोकतंत्र के मंदिर को धोखा दिया गया है। जम्मू-कश्मीर में उन तत्वों को जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र के तहत संविधान को खारिज कर दिया और प्रस्ताव की मांग की है। इससे अलगाववादी कश्मीरियों का अहसास खत्म हो जाएगा।

 

 

वहीं जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला ने बयान जारी करके कहा था कि भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद-370 को हटाना जम्मू-कश्मीर के लोगों के साथ धोखा है|जम्मू-कश्मीर ने 1947 में जिस भरोसे के साथ भारत से जुड़ा था, आज वह टूट गया है| भारत सरकार के इस फैसले से भयानक दुष्परिणाम सामने आएंगे|

 

 

 

बता दें कि राज्यसभा में सोमवार को जम्मू कश्मीर पुनर्गठन विधेयक को पास कर दिया गया है| बिल के पक्ष में 125 वोट और 61 विपक्ष में वोट पड़े हैं|  इस बिल में जम्मू कश्मीर से लद्दाख को अलग करने और दोनों को केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने के प्रावधान शामिल हैं|

 

 

सोमवार को आए ऐतिहासिक फैसले ने देश के राज्यों की संख्या घटा दी| इसी के साथ केंद्रशासित राज्यों की संख्या बढ़कर सात से नौ हो गई|केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में पांच अगस्त को एक विधेयक पेश किया| इसके साथ ही जम्‍मू-कश्‍मीर का दो भागों में बंटवारा कर दिया है| जम्‍मू-कश्‍मीर केंद्रशासित प्रदेश होगा|  लद्दाख बिना विधानसभा का केंद्रशासित प्रदेश होगा|

 

 

लद्दाख में चंडीगढ़ की तरह से विधानसभा नहीं होगी| जम्मू -कश्मीर डिवीजन विधान के साथ एक अलग केंद्र शासित प्रदेश होगा जहां दिल्ली और पुडुचेरी की तरह विधानसभा होगी. इस तरह से देश में केंद्र शासित राज्यों की संख्या 7 से बढ़कर 9 हो गई है|

 

 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का वो आदेश जिसने कश्मीर से हटाई धारा 370

जम्मू-कश्मीर को लेकर मोदी सरकार ने ऐतिहासिक कदम उठा दिया है| जम्मू-कश्मीर अब एक केंद्र शासित प्रदेश बन गया है. साथ ही घाटी को धारा 370 के जरिए जो विशेषाधिकार मिले हुए थे, वह भी खत्म हो गए हैं| इसके अलावा केंद्र सरकार ने लद्दाख को जम्मू-कश्मीर से अलग कर दिया है, यानी लद्दाख अब एक अलग राज्य होगा|

 

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING