असम में बोले पीएम मोदी, हमसे अलग हुए देशों में जो  हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध पारसी और ईसाई, वहां रह गए थे उनको संरक्षण देना हमारा दायित्व है

  • 09 February,2019
  • 223 Views
असम में बोले पीएम मोदी,  हमसे अलग हुए देशों में जो  हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध पारसी और ईसाई, वहां रह गए थे उनको संरक्षण देना हमारा दायित्व है

नई दिल्ली: Lok Sabha Elections 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी शनिवार को पूर्वोत्तर के दौरे पर हैं, जहां वह तीन जनसभा को संबोधित करेंगे. पीएम नरेंद्र मोदी पूर्वोत्तर के दो दिवसीय दौरे पर हैं. पीएम मोदी अरुणाचल प्रदेश, असम और त्रिपुरा में तीन जनसभा को संबोधित करेंगे|

 

 

असम के अमीनगांव में जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा,- BC और AD यानि बिफोर कांग्रेस और आफ्टर डायनेस्टी का ही गौरवगान करने वालों से मैं आज यहां से पूछना चाहता हूं कि आखिर आपने भारत के सच्चे रत्नों को न पहचानने का कुटिल खेल दशकों तक क्यों खेला…?

 

 

आखिर ऐसा क्यों रहा कि कुछ लोगों के लिए जन्म लेते ही उनके लिए भारत रत्न तय हो जाता था और देश के मान-सम्मान के लिए जिन्होंने जीवन लगा दिया उनको सम्मानित करने के लिए दशक लग जाते थे…..?

 

 

आज मुझे गर्व है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार के समय ही असम के दो सपूतों, गोपीनाथ बोरदोलोई और भुपेन हजारिका को भारत रत्न देने का काम किया गया है : पीएम मोदी

 

असम और उत्तर पूर्व के लोगों के साथ मेरा विशेष लगाव है। आपका स्नेह और आशीर्वाद मेरे लिए बहुत महत्वपूर्ण है। जितना अधिकार आपका मुझ पर है, उतना ही दायित्व मेरा भी आपके प्रति है : पीएम मोदी

 

 

नागरिकता संशोधन का विषय सिर्फ असम या नॉर्थ ईस्ट से जुड़ा नहीं है, बल्कि देश के अनेक हिस्सों में मां भारती पर आस्था रखने वाली ऐसी संताने हैं, ऐसे लोग हैं जिनको अपनी जान बचाकर भारत आना पड़ा है : पीएम मोदी

 

चाहे वो पाकिस्तान से आए हों, अफगानिस्तान से आए हों या फिर बांग्लादेश से, ये 1947 से पहले भारत का ही हिस्सा थे, जब आस्था के आधार पर देश का विभाजन हुआ : पीएम मोदी

 

 

हमसे अलग हुए देशों में जो अल्पसंख्यक यानि हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध पारसी और ईसाई, वहां रह गए थे उनको संरक्षण देना हमारा दायित्व है : पीएम मोदी

 

 

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश में 4000 करोड़ रुपए से अधिक लागत वाली कई योजनाओं का उद्घाटन किया और कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं की नींव रखी। मोदी ने होल्लोंगी में ग्रीनफील्ड हवाईअड्डे की नींव रखी और लोहित जिले के तेजू में एक पुन:संयोजित (रेट्रोफिटेड) हवाई अड्डे का उद्घाटन किया।

 

 

 

उन्होंने अरुणाचल प्रदेश के लिए एक नए दूरदर्शन चैनल ‘डीडी अरुण प्रभा’ का उद्घाटन भी किया। प्रधानमंत्री ने 110 मेगावाट पारे पनबिजली संयंत्र देश को सौंपा। वहीं जोटे में ‘फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ (एफटीआईआई) के एक स्थायी परिसर की आधारशिला रखी गई है। मोदी ने आईजी पार्क में आयोजित एक समारोह में रिमोट के जरिए 50 स्वास्थ्य एवं कल्याण केन्द्रों का उद्घाटन भी किया।

 

पीएम ने कहा, ‘मैं राज्य और मुख्यमंत्री को बधाई देता हूं कि सौभाग्य योजना के तहत अब हर घर में बिजली का कनेक्शन है। अरुणाचल प्रदेश ने आज जो पाया है उसे जल्द ही पूरा देश प्राप्त कर लेगा। आज की परियोजनाओं से अरुणाचल प्रदेश की कनेक्टिविटी तो सुधरेगी ही राज्य के पावर सेक्टर को भी मजबूती मिलेगी।’

 

काले झंडे दिखाए

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शुक्रवार शाम शहर पहुंचने और हवाई अड्डे से राजभवन जाने के दौरान ऑल असम स्टूडेंट यूनियन (आसू) के सदस्यों ने काले झंडे दिखाए और नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ नारेबाजी की. आसू सदस्यों ने गुवाहाटी विश्वविद्यालय के गेट पर प्रधानमंत्री को उस समय काले झंडे दिखाए जब वह लोकप्रिय गोपीनाथ बारदोलोई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा से शाम करीब साढ़े छह बजे राजभवन की ओर जा रहे थे.

 

 

 

 

 

 

Author : kapil patel

Share With

आपके लिए

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING