loading...

जलियांवाला बाग हत्याकांड की 100वीं बरसी: राहुल गांधी ने जलियांवालाबाग स्मारक पहुंचकर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

  • 13 April,2019
  • 57 Views
जलियांवाला बाग हत्याकांड की 100वीं बरसी: राहुल गांधी ने जलियांवालाबाग स्मारक पहुंचकर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

नई दिल्ली: Jallianwala Bagh Centenary: जलियांवाला बाग नरसंहार 13 अप्रैल 2019 को 100 साल पूरे हो गए हैं।कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नरसंहार के 100 साल पूरे होने पर जलियांवालाबाग स्मारक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और राज्य मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू भी मौजूद।  पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू ने शहीदों को श्रद्धांजलि दी| 100 साल पूरे होने पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी|

 

भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त सर डोमिनिक एसक्विथ ने नरसंहार के 100 साल पूरे होने पर अमृतसर में स्थित जलियांवालाबाग स्मारक पर माल्यार्पण कर और शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

 

राहुल गांधी ने कहा कि, आज क्रूर जलियांवाला बाग हत्याकांड की शताब्दी है, बदनामी का एक दिन जिसने पूरी दुनिया को स्तब्ध कर दिया और भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का रास्ता बदल दिया। हमारी स्वतंत्रता की कीमत को कभी नहीं भूलना चाहिए|

 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर लिखा है- 100 वर्ष पहले आज ही के दिन, हमारे प्यारे स्वाधीनता सेनानी जलियांवाला बाग में शहीद हुए थे। वह भीषण नरसंहार सभ्यता पर कलंक है। बलिदान का वह दिन भारत कभी नहीं भूल सकता। उनकी पावन स्मृति में जलियांवाला बाग के अमर बलिदानियों को हमारी श्रद्धांजलि|

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा कि-आज, जब हम भयावह जलियांवाला बाग नरसंहार के 100 वर्षों का निरीक्षण करते हैं, तो भारत उस घातक दिन पर शहीद हुए सभी लोगों को हम श्रद्धांजलि देते हैं। उनकी वीरता और बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। उनकी स्मृति हमें उस भारत के निर्माण के लिए और भी अधिक मेहनत करने के लिए प्रेरित करती है जिस पर उन्हें गर्व होगा

 

 

 

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने ट्वीट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी| उन्होने ट्वीट कर लिखा है- आज से 100 साल पहले हुए जलियांवाला बाग के नरसंहार के शहीदों को हम नमन करते हैं। रॉलेट एक्ट के खिलाफ शांतिपूर्ण तरीके से अपनी आवाज उठा रहे निर्दोष लोगों पर जनरल डायर ने गोली चलाने के आदेश दिए थे जिसमें सैकड़ों लोगों की जान गई।

 

उन्होने कहा कि, इस नृशंस हत्याकांड ने इतिहास की धारा बदल दी। इन शहीदों के बलिदान ने ब्रिटिश साम्राज्य के पतन की शुरुआत की थी जिसका अंत 1947 में भारत की आजादी के साथ हुई। इस घटना पर खेद व्यक्त करना काफी नहीं है, ब्रिटिश सरकार को शहीद परिवारों और पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए।

 

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने  ट्वीट कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी| उन्होने कहा कि -भारत आज अमृतसर में हुए जलियाँवाला बाग हत्याकांड के शताब्दी समारोह का अवलोकन करता है। जलियांवाला बाग में अपने प्राणों की आहुति देने वाले सभी को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। उनके बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। राष्ट्र जलियांवाला बाग शहीदों का ऋणी रहेगा।

 

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

Tag With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING