LIVE लोकसभा चुनाव नतीजे / भारत के इतिहास में पहली बार बहुमत के साथ किसी गैर-कांग्रेसी दल की सत्ता में दोबारा वापसी

  • 23 May,2019
  • 186 Views
LIVE लोकसभा चुनाव नतीजे / भारत के इतिहास में पहली बार बहुमत के साथ किसी गैर-कांग्रेसी दल की सत्ता में दोबारा वापसी

नई दिल्ली: 17वीं लोकसभा के चुनाव के लिए वाेटों की गिनती जारी है। रुझान बता रहे हैं कि देश में ऐसा पहली बार हो रहा है, जब बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार कोई पार्टी सरकार बनाने की स्थिति में आ गई है। भाजपा को पिछली बार 282 सीटें मिली थीं। इस बार वह 282 से भीआगे दिख रही है। इस बार एग्जिट पोल्स के अनुमान सही रहे। 10 में से 9 एग्जिट पोल्स में एनडीए को स्पष्ट बहुमत मिलने के अनुमान जाहिर किए गए थे। नरेंद्र मोदी वाराणसी से आगे चल रहे हैं। राहुल गांधी वायनाड, रायबरेली से सोनिया आगे चल रही हैं। उधर, बिहार की मधेपुरा सीट पर महागठबंधन के उम्मीदवार शरद यादव 40 हजार वोटों से पीछे हैं। अमेठी से स्मृति, लखनऊ से राजनाथ, भोपाल से प्रज्ञा ठाकुर और गांधीनगर से अमित शाह आगे हैं। गुना मेंसिंधिया 24 हजार से ज्यादा वोटों से पीछे चल रहे हैं।

 

 

 

सेंसेक्स पहली बार 40 हजार के पार

इस बीच, चुनावी नतीजों के असर से सेंसेक्स 40 हजार से ऊपर पहुंच गया। पिछली बार जब16 मई 2014 को नतीजे आए थे, तबसेंसेक्स ने पहली बार 25 हजार का आंकड़ा छुआ था। इस बार लोकसभा चुनाव के नतीजों के दिन सेंसेक्स 40 हजार के पार हुआ।

 

 

मोदी ने इंदिरा की बराबरी की

जवाहरलाल नेहरू ने लगातार तीन बार और इंदिरा गांधी ने लगातार दो बार कांग्रेस को पूर्ण बहुमत दिलाकर सरकार बनाई थी। नेहरू ने 1952, 1957 और 1962 का चुनाव जीत था। वहीं, इंदिरा गांधी ने 1967 और 1971 का चुनाव पूर्ण बहुमत के साथ जीता था। मोदी ने अब इंदिरा की बराबरी कर ली है। 2014 में उनके नेतृत्व में भाजपा ने 282 सीटें जीती थीं। इस बार भी वह 280 से ज्यादा सीटें जीत रही है।

 

 

 

 

अपडेट्स
केरल की तिरुवनंतपुरम सीट से कांग्रेस के शशि थरूर 13000 वोटों से आगे।

 

मप्र की छिंदवाड़ा सीट पर मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ 15778 वोटों से आगे। प्रदेश की बाकी 28 सीटों पर भाजपा आगे।

 

जम्मू-कश्मीर की अनंतनाग सीट पर नेशनल काॅन्फ्रेंस के गुलाम अहमद मीर आगे। महबूबा मुफ्ती तीसरे नंबर पर।

 

अमित शाह गुजरात की गांधीनगर सीट से 1 लाख 25 हजार वोटों से आगे।

 

उड़ीसा की पुरी सीट से भाजपा के संबित पात्रा पीछे।

 

उत्तरप्रदेश की मुजफ्फरनगर सीट से रालोद प्रमुख अजीत सिंह और बागपत से उनके बेटे जयंत चौधरी पीछे।

 

हरियाणा की सभी 10 सीटों पर भाजपा आगे। महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को 37 सीटों पर बढ़त।

 

भोपाल में भाजपा की प्रज्ञा सिंह ठाकुर कांग्रेस के दिग्विजय सिंह से 30 हजार वोटों से आगे।

 

इंदाैर में भाजपा के शंकर लालवानी कांग्रेस के पंकज संघवी से 90 हजार से ज्यादा वोटों से आगे।

 

अमेठी से स्मृति ईरानी 2000 वोटों से फिर आगे।

 

राजस्थान की बाड़मेर सीट से केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ कांग्रेस के मानवेंद्र सिंह से आगे।

 

रामपुर से भाजपा की जयाप्रदा आगे, फतेहपुर सीकरी से कांग्रेस से राजबब्बर पीछे।
भाजपा दिल्ली की सभी 7 सीटों पर आगे।वाराणसी में भाजपा कार्यकर्ताओं का जश्न शुरू।
दक्षिण बेंगलुरु से भाजपा के तेजस्वी सूर्या, कांग्रेस के कार्ति चिदंबरम तमिलनाडु की शिवगंगा सीट से आगे चल रहे हैं।
श्रीनगर से फारूक अब्दुल्ला और पंजाब की उधमपुर सीट से केंद्रीय मंत्री जितेंद्र प्रसाद आगे।

 

 

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के भतीजे और तृणमूल उम्मीदवार अभिषेक बनर्जी आगे।
बिहार की पटना साहिब सीट से कांग्रेस के शत्रुघ्न सिन्हा भाजपा के रविशंकर प्रसाद से पीछे।
पूर्वी दिल्ली से भाजपा उम्मीदवार गौतम गंभीर आगे चल रहे हैं।

 

 

बिहार की बेगूसराय सीट पर भाजपा के गिरिराज सिंह आगे, सीपीआई के कन्हैया कुमार तीसरे नंबर पर।
पंजाब की बठिंडा सीट से केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल और गुरुदासपुर से भाजपा के सनी देओल पीछे।
वाराणसी में नरेंद्र मोदी 11252 वोटों से आगे, कांग्रेस अजय राय दूसरे नंबर पर।

 

 

 

अमेठी में स्मृति ईरानी से राहुल गांधी पीछे चल रहे हैं।
भोपाल में प्रज्ञा ठाकुर, वायनाड से राहुल गांधी और गांधीनगरसे अमित शाह आगे।
लखनऊ से गृहमंत्री राजनाथ सिंह और जयपुर शहर से भाजपा उम्मीदवार रामचरण वाेरा आगे चल रहे हैं।
बरेली से केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार और सारण से राजीव प्रताप रूडी आगे। तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस के शशि थरूर पीछे।
शुरुआती रुझानों में भाजपा राजस्थान में 16 और कांग्रेस एक सीट पर आगे।

 

 

 

 

रुझान: कांग्रेस+ ने तमिलनाडु-महाराष्ट्र से अपनी सीटें दोगुनी कीं कांग्रेस+ को पिछली बार की 60 सीटों से दोगुनी यानी करीब 120 सीटें मिलने के रुझान सामने आ रहे हैं। सबसे ज्यादा फायदा तमिलनाडु में हो रहा है, जहां उसे 25 सीटों पर बढ़त मिलने के रुझान हैं। उधर, महाराष्ट्र में कांग्रेस को 10 सीटें मिलती दिखाई दे रही हैं। यहां 2014 में कांग्रेस को 2 सीटें मिली थीं। इसके अलावा छत्तीसगढ़ में भी राहुल की पार्टी को 4 सीटों पर बढ़त के रुझान हैं। यहां पिछली बार पार्टी को 1 सीट ही मिली थी। इसके अलावा गुजरात में 4,उप्र में 3 सीटों पर कांग्रेस को बढ़त के रुझान हैं।

 

 

वोटों की इस तरह गिनती होगी
चुनाव आयोग हर लोकसभा सीट के तहत आने वाले हर विधानसभा क्षेत्र के 5 मतदान केंद्रों की ईवीएम का मिलान वीवीपैट (वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) की पर्चियों से करेगा। इस वजह से इस बार आधिकारिक नतीजों के ऐलान में 4 से 6 घंटे की देरी हो सकती है।
न्यूज एजेंसी के मुताबिक, देशभर के 10.3 लाख मतदान केंद्रों में से 20,600 बूथ पर ईवीएम-वीवीपैट का मिलान होगा।
अगर वीवीपैट पर्चियों का मिलान नहीं हो पाता है तो पर्चियोें में दर्ज वोटों की गिनती होगी और उसी गिनती के आधार पर मिले नतीजों को सही माना जाएगा।

 

 

मौजूदा प्रक्रिया यह है कि वीवीपैट पर्चियों का ईवीएम से मिलान सबसे आखिर में ही किया जाता है।
पोस्टल बैलट की गिनती सबसे पहले होती है। इस बार डाक मतपत्रों की संख्या देशभर में महज 16.49 लाख रही है।
चुनाव आयोग ने विपक्षी दलों की मांग खारिज की

 

 

22 विपक्षी दलों ने चुनाव आयोग से मांग की थी कि अगर हर विधानसभा क्षेत्र के 5 पोलिंग स्टेशनों में से एक पर भी ईवीएम-वीवीपैट मिलान में गड़बड़ी पाई जाती है, तो उस क्षेत्र के सभी पोलिंग स्टेशनों पर 100% वीवीपैट वेरिफिकेशन कराया जाए। विपक्षी दलों ने यह भी कहा था कि वीवीपैट मिलान की प्रक्रिया वोटों की गिनती से पहले हो, ना कि उसके बाद। हालांकि, चुनाव आयोग ने विपक्षी दलों की यह मांग खारिज कर दी।

 

 

चुनाव प्रचार: मोदी ने 50 दिन में 142 रैलियां कीं, राहुल ने 67 दिन में 129 रैलियां कीं
मोदी का फोकस बंगाल पर: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 50 दिन के लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान में 142 रैलियां कीं। इस दौरान उनका ज्यादा फोकस उत्तरप्रदेश, बंगाल और ओडिशा की 143 सीटों पर रहा। यहां मोदी ने 54 यानी 40% जनसभाएं कीं।

 

 

राहुल ने बिहार-यूपी में मेहनत की: राहुल गांधी ने 67 दिन में 129 रैलियां कीं। सबसे ज्यादा 18 रैलियां उन्होंने मध्यप्रदेश में और 17 रैलियां उत्तर प्रदेश में कीं। राहुल बिहार में 7 बार रैलियों के लिए गए, जबकि यहां उनकी पार्टी 40 में से केवल 9 सीटों पर चुनाव लड़ रही है।

 

 

मुद्दे: राष्ट्रवाद-एयर स्ट्राइक बनाम न्याय योजना और राफेल-जीएसटी
नरेंद्र मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान राष्ट्रवाद, राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद, एयर स्ट्राइक, सर्जिकल स्ट्राइक और मजबूत सरकार जैसे मुद्दों पर बात की।

 

 

राहुल गांधी ने नोटबंदी, जीएसटी, राफेल सौदे पर बयान दिए और रैलियां कीं। राहुल ने ‘‘चौकीदार चोर है’’जुमले को जोर-शोर से उछाला। कांग्रेस अध्यक्ष ने न्याय योजना और किसान योजना का भी जिक्र चुनावी रैलियों में किया।

 

 

 

 

Author : Ashok Chaudhary

Share With

Tag With

आपके लिए

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING