मध्यप्रदेश: कम्प्यूटर बाबा का दावा BJP के चार MLA पाला बदलने का कर रहे हैं विचार, कहा-जब….

  • Line : kapil patel
  • 25 July,2019
  • 53 Views
मध्यप्रदेश: कम्प्यूटर बाबा का दावा BJP के चार MLA पाला बदलने का कर रहे हैं विचार, कहा-जब….

इंदौर : मध्यप्रदेश सरकार के नदी संरक्षण न्यास के प्रमुख कम्प्यूटर बाबा ने दावा किया कि भाजपा के चार और विधायक पाला बदलने का विचार कर रहे हैं| मध्यप्रदेश के इंदौर में कंप्यूटर बाबा ने कहा कि चार विधायक (भाजपा विधायक) मेरे संपर्क में हैं, जब समय सही होगा तो मैं उन्हें सबके सामने पेश करूँगा। जब सीएम कमलनाथ मुझे बताएंगे, मैं उन्हें सब के सामने पेश करूंगा। वे (4 भाजपा विधायक) मेरे संपर्क में हैं और उम्मीद कर रहे हैं कि उन्हें सरकार में शामिल किया जाएगा।

 

 

बता दें कि  मध्य प्रदेश विधानसभा में आपराधिक कानून (संशोधन) पर मतदान के दौरान भाजपा के दो विधायक कमलनाथ सरकार के पक्ष में मतदान किया था . मध्य प्रदेश विधानसभा में आपराधिक कानून (संशोधन) पर मतदान के दौरान कमलनाथ सरकार के पक्ष में मतदान करने वाले दो भाजपा विधायकों, नारायण त्रिपाठी और शरद कौल हैं.“ दंड विधि संशोधन विधेयक” पर हुए मत-विभाजन के दौरान कांग्रेस को 122 विधायकों ने मतदान किया था.

 

 

इससे पहले भाजपा नेता और मध्यप्रदेश के नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने कहा था कि हमारे ऊपर वाले नंबर 1 या नंबर 2 का आदेश हुआ तो 24 घंटे भी आपकी सरकार (सीएम कमलनाथ ) नही चलेगी. इस पर सीएम कमलनाथ ने चैलेंज देते हुए कहा था कि आपके ऊपर वाले नंबर 1 और 2 समझदार हैं, इसलिए आदेश नही दे रहे हैं. आप चाहें तो अविश्वास प्रस्ताव (No Confidence Motion ले आएँ. MP सीएम कमलनाथ ने कहा था कि बीजेपी कहती है कि हम अल्पसंख्यक सरकार हैं और किसी भी दिन गिर सकते हैं। विधानसभा में मतदान (आपराधिक कानून संशोधन पर), भाजपा के दो विधायकों ने हमारे सरकार के पक्ष में मतदान किया.

 

 

 

कांग्रेस की मध्य प्रदेश इकाई के मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने ट्वीट कर कहा था कि, मप्र विस में नेता प्रतिपक्ष श्री भार्गव का यह कहना कि “यदि नंबर एक और नंबर दो बोलें तो, हम सरकार गिरा देंगे”, एक तरह से राजनैतिक माफिया द्वारा की गई स्वीकारोक्ति है कि उनके ‘सरगना’ भ्रष्टाचार के पैसों से, प्रदेशों की चुनी हुई सरकारों को गिराने की निंदनीय कोशिशों में लिप्त हैं।

 

 

शोभा ओझा ने कहा था कि, मप्र विधानसभा में “दंड विधि संशोधन विधेयक” पर हुए मत-विभाजन के दौरान कांग्रेस को मिले 122 मतों से एक बार फिर सिद्ध हो गया है कि कांग्रेस का किला पूरी तरह से अभेद्य है और भाजपा को भी चाहिए कि वह कमलनाथ जी के नेतृत्व का लोहा मानते हुए, ख्याली पुलाव पकाना अब बंद करे।

 

 

 

 

 

आपके लिए

You may like

Follow us on

आपके लिए

TRENDING