1984 सिख विरोधी दंगा मामला: दोषी यशपाल सिंह को मौत की सजा और नरेश सेहरावत को आजीवन कारावास की सजा 

  • 20 November,2018
  • 253 Views
1984 सिख विरोधी दंगा मामला: दोषी यशपाल  सिंह को मौत की सजा और नरेश सेहरावत को आजीवन कारावास की सजा 

नई दिल्ली: 1984 में सिख विरोधी दंगों से जुड़े एक मामले में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 34 साल बाद दोषी यशपाल को मौत की सजा और दूसरे दोषी नरेश सेहरावत को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। 1984 दंगों में महिपालपुर में दो सिख युवकों को मारने के अपराध में दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने सज़ा सुनाई है|  बीते बुधवार (14 नवंबर) को दोनों आरोपियों को हत्या, हत्या की कोशिश, लूटपाट, आगजनी व अन्य धाराओं में दोषी करार दिया था। यह पहला मामला है जिसमें एसआईटी की जांच के बाद आरोपी को दोषी ठहराया गया था। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अजय पांडे ने नरेश सेहरावत और यशपाल सिंह को दंगों के दौरान दक्षिण दिल्ली के महिपालपुर में हरदेव सिंह और अवतार सिंह की हत्या का दोषी ठहराया था. यह मामला हरदेव सिंह के भाई संतोख सिंह ने दर्ज कराया था.

 

 

अतिरिक्त पुलिस आयुक्त कुमार ज्ञानेश ने बताया कि , 1984 में सिख दंगों के मामले में यशपाल सिंह को मौत की सजा और नरेश सेहरावत को आजीवन कारावास की । दोनों दोषियों पर 35 लाख रुपये जुर्माना लगाया। अदालत के बजाए तिहाड़ जेल में फैसले का सुनवाई किया गया|

 

 

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि, मैं इस फैसले का स्वागत करता हूं और मुझे आशा है कि अन्य 8 लंबित मामलों को अदालतों द्वारा भी लिया जाएगा और बिना किसी देरी के निपटारे का निपटारा किया जाएगा.

 

 

 

 

Author : kapil patel

Share With

Tag With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING