loading...

जम्मू-कश्मीर: भाजपा ने कहा सरकार बनाने के लिए सीमा पार से निर्देश मिले हों, उमर बोले, हिम्मत है तो साबित करके दिखाओ

  • 22 November,2018
  • 51 Views
जम्मू-कश्मीर: भाजपा ने कहा सरकार बनाने के लिए सीमा पार से निर्देश मिले हों, उमर बोले, हिम्मत है तो साबित करके दिखाओ

नई दिल्ली/जम्मू-कश्मीर: जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग होने के बाद सियासी बयानबाजी तेज हो गई है। उमर अब्दुल्ला ने कहा, “BJP के सीनियर लीडर ने कहा कि यह सब पाकिस्तान के इशारे पर हो रहा है.. यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक वरिष्ठ भाजपा नेता ने कहा है कि हमें पाकिस्तान से निर्देश प्राप्त हुए हैं। मैं राम माधव साहब और उनके सहयोगियों को साक्ष्य के साथ साबित करने के लिए चुनौती देता हूं। इसके सबूत दिए जाएं| आप मेरे सहयोगियों के बलिदान का अपमान किया हैं| आपको सबूत देना होगा या माफी मांगनी होगी|  इस मुल्क के लिए हमने क्या किया है, यह हम जानते हैं|  अगर आपमें हिम्मत है, तो सबूत लेकर लोगों की अदालत में आ जाइए

 

 

उमर अब्दुल्ला ने कहा, यह पहली बार है कि एक फैक्स मशीन काम नहीं करती और लोकतंत्र की मौत के लिए जिम्मेदार बन गई। यह फैक्स मशीन एक तरफा फैक्स है, यह केवल आउटगोइंग है और no incoming है। यह एक अद्वितीय फैक्स मशीन है और जांच इस पर की जानी चाहिए|

 

 

राम माधव के बयान पर उमर अब्दुल्ला ने पलटवार करते हुए कहा कि, मैं आपको चैलेंज करता हूं कि इन आरोपों को सिद्ध करके दिखाएं। आपके पास रॉ-एनआईए-सीबीआई, IB (CBI too is your parrot) है, इसलिए सार्वजनिक डोमेन में साक्ष्य रखने की हिम्मत है, तो इन आरोपों को साबित करें अन्यथा माफी मांगें।

 

 

 

BJP नेता राम माधव ने जम्मू एवं कश्मीर विधानसभा को भंग किए जाने पर कहा, पीडीपी और एनसी ने पिछले महीने स्थानीय निकाय चुनाव का बहिष्कार किया क्योंकि उनके पास सीमा पार से निर्देश मिले थे। संभवतः उन्हें अब एक साथ आकर सरकार बनाने के लिए सीमा पार से नए निर्देश मिले हों… उन्होंने जो किया, उसी की वजह से राज्यपाल को मामले पर ध्यान देने की ज़रूरत पड़ी|

 

उन्होंने कहा, केवल राज्यपाल जवाब दे सकते है कि गवर्नर घर का फैक्स क्यों काम नहीं कर रहा है। केवल उन्हे इस पर जवाब देना चाहिए।लेकिन यह मैडम महबूबा का सिर्फ़ एक बहाना है। पत्र में, उसने कभी दावा नहीं किया कि वह सरकार का गठन करेगी, उसने कहा कि मैं आऊंगा और आपको देखूंगा और दावा खड़ा करूँगा। यह सब एक नाटक था|

 

 

गवर्नर सत्यपाल मलिक ने आनन-फानन में बुधवार रात विधानसभा भंग कर दी है। इस आदेश के बाद नई सरकार के गठन की अटकलों और प्रयासों पर विराम लग गया है। 19 दिसम्बर को राज्यपाल शासन समाप्त हो रहा है। उसके बाद राष्ट्रपति शासन लागू होना लगभग तय है। माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के साथ जम्मू कश्मीर विधानसभा के चुनाव कराए जा सकते हैं।

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING