loading...

राहुल गांधी बोले-  कमजोर ‘मोदी’ ‘चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग’ से डरे हुए हैं , उनके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकलता

  • 14 March,2019
  • 80 Views
राहुल गांधी बोले-  कमजोर ‘मोदी’ ‘चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग’ से डरे हुए हैं , उनके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकलता

नई दिल्ली : चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC)  1267 सूची में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए अड़ंगा डाल दिया| जिसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी  (Rahul Gandhi)  ने प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) पर हमला करते हुए कहा कि, कमजोर मोदी शी चिनफिंग से डरते हैं। उनके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकलता जब चीन भारत के खिलाफ काम करता है।

 

चीन द्वारा अड़ंगा लगाए जाने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, कमजोर ‘मोदी’ ‘चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग’ से डरे हुए हैं , उनके मुंह से एक शब्द भी नहीं निकलता ‘जब चीन भारत के खिलाफ काम करता है।

 

PM मोदी की चीन के लिए कैसी ‘नमो’ डिप्लोमेसी है! चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के गुजरात दौरे, पीएम मोदी के चीन दौरे और उनसे दिल्ली में गले मिलने पर भी राहुल गांधी  ने कहा, ‘नमो’ की चीन कूटनीति’  गुजरात में शी के साथ झूला झूलना’ दिल्ली में गले लगाना’ चीन में शी चिनफिंग सामने घुटने टेक देना रही|

 

 

 

 

चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद 1267 सूची (UNSC) में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए अड़ंगा डाल दिया|  जबकि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद 1267 सूची में सह-प्रायोजकों के रूप में JeM चीफ मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित करने के लिए 10 से अधिक देशों ने भारत की बोली का समर्थन किया था।

 

 

सूत्रो के अनुसार ,UNSC 1267 की वैश्विक आतंकवादी सूची में जेएसएम प्रमुख मसूद अजहर को सूचीबद्ध करने की समय सीमा के अनुसार, कई देश इस सूची में अजहर को शामिल करने वाले सह प्रायोजकों के रूप में भारत में शामिल हुए है।

 

 

चीन द्वारा अड़ंगा लगाए जाने के बाद विदेश मंत्रालय ने निराशा जताई है। विदेश मंत्रालय ने कहा,- हम इस परिणाम से निराश हैं। इसने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा कार्रवाई (जेएम) के नेता को नामित करने के लिए कार्रवाई को रोक दिया है, जो एक पेशेवर और सक्रिय आतंकवादी संगठन है जिसने 14 फरवरी 2019 को जम्मू और कश्मीर में आतंकवादी हमले की जिम्मेदारी ली है।

 

मंत्रालय ने कहा हम सदस्य राज्यों के प्रयासों के लिए आभारी हैं जिन्होंने पदनाम प्रस्ताव और अन्य सभी सुरक्षा परिषद के सदस्यों की अभूतपूर्व संख्या के साथ-साथ गैर-सदस्य जो सह-प्रायोजक के रूप में शामिल हुए थे, के लिए आभारी हैं।  हम यह सुनिश्चित करने के लिए सभी उपलब्ध मार्ग अपनाएंगे कि आतंकवादी नेता हमारे नागरिकों पर जघन्य हमलों में शामिल हैं।

 

 

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING