loading...

मोदी सरकार बनते ही ब्लैकलिस्ट ‘अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी’ के आये ‘अच्छे दिन : रणदीप सुरजेवाला

  • 05 December,2018
  • 86 Views
मोदी सरकार बनते ही ब्लैकलिस्ट ‘अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी’ के आये ‘अच्छे दिन : रणदीप सुरजेवाला

नई दिल्ली: अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील मे प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि, कांग्रेस ने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड मामले के आरोपी क्रिश्चियन मिशेल पर दबाव बनाकर पार्टी की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी को फंसाने की साज़िश रची|

 

 

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘अगस्ता वेस्टलैंड मामले में आरोपी क्रिश्चियन मिशेल को दुबई में गिरफ्तार किया गया| उसकी बहन शाशा ओजमैन व वकील रोज़मैरी पैट्रिज़ी ने कहा है कि मोदी सरकार व उसकी कठपुतली एजेंसियां- सीबीआई/ईडी मिशेल को सोनिया गांधी को साज़िश में फंसाने के लिए दबाव डाल रही हैं|

 

 

 

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि, 5 राज्यों के विधानसभा चुनावों में अपनी क़रारी हार सामने देख, मोदी जी और भाजपा झूठे और तथ्यहीन इल्ज़ाम लगा रहें हैं – AgustaWestland मामले में उन्होंने ये साबित कर दिया है कि – ‘उल्टा चोर कोतवाल को डांटे’| गाली-गलौज, झूठी बयानबाज़ी और अनर्गल-बेतुके बयान मोदी जी के चरित्र का हिसा बन गया है। मोदी जी का नया नाम ‘दामदार’ रख देना चाहिये, क्योंकि मोदी सरकार घोटालों में हिस्सेदार है। इस देश की एक पुरानी कहावत है, ‘चोर मचाये शोर’- शायद भाजपा और मोदी जी आज इसलिए इतना शोर मचा रहें है।

 

 

 

 

सुरजेवाला ने कहा, ‘भारतीय जनता पार्टी का चाल, चेहरा और चरित्र आज देश और दुनिया के सामने पूरी तरह बेनकाब हो गया है| अगस्ता वेस्टलैंड मामले की सच्चाई यह भी है कि तत्कालीन यूपीए-कांग्रेस सरकार ने फरवरी, 2013 में 3546 करोड़ रुपये की लागत से 12 हैलीकॉप्टर खरीदकर इस अनुबंध को रद्द कर दिया था|

 

 

 

सुरजेवाला ने कहा, ‘संप्रग सरकार ने 12 फरवरी, 2013 को इस मामले की जांच सीबीआई को दे दी थी. राष्ट्रीय हित का अनुसरण करते हुए संप्रग सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी से 2068 करोड़ रुपये बैंक सिक्योरिटी जब्त कर वसूल कर लिया, जबकि मात्र 1620 करोड़ रुपया ही कंपनी को दिया गया था|

 

 

 

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि, इसके अतिरिक्त तीन अगस्ता वेस्टलैंड हैलीकॉप्टर भी जब्त कर लिए, जिनकी कीमत 886 करोड़ रुपये थी. इस प्रकार यूपीए सरकार ने लगभग 3000 करोड़ रुपये की वसूली अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी से की. संप्रग सरकार ने 10 फरवरी, 2014 को अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी को ब्लैकलिस्ट करने की प्रक्रिया भी शुरू की जो 3 जुलाई, 2014 को पूरी हो गई|

 

 

रणदीप सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि, ‘मोदी सरकार लगातार रहस्यमयी कारणों से अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी पर दया दृष्टि दिखाती आई है| 26 अगस्त, 2014 को मोदी सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी की ब्लैकलिस्टिंग ख़त्म कर दी और उसे रक्षा सौदों में सब-कॉन्ट्रैक्टर के तौर पर हिस्सा लेने की इज़ाज़त दे दी|

 

 

 

एक रिपोर्ट 

मालूम हो कि अगस्ता वेस्टलैंड से जुड़े VVIP हेलीकॉप्टर घोटाले में इंडिया टुडे ने अपनी एक एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में दावा किया था कि दुबई से गिरफ़्तार किए गए मामले के एक आरोपी क्रिश्चियन मिशेल की बहन शाशा ओज़मैन और वकील रोज़मैरी पैट्रिज़ी ने अलग अलग टेलीफोनिक बातचीत में कहा था कि, जांचकर्ता ने क्रिश्चियन मिशेल पर गलत बयान देने का दबाव बना रहे थे|

 

 

इन दोनों ने आरोप लगायाथा कि भारतीय जांच अधिकारी मिशेल से झूठे कबूलनामे पर दस्तख़त लेने की कोशिश कर रहे हैं| मिशेल की वकील और बहन का आरोप है कि ये झूठा कबूलनामा लेने की कोशिश की जा रही है कि जिस वक़्त हेलिकॉप्टर डील हुई थी, तब मिशेल की संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी से निजी तौर पर पहचान थी|

 

 

 

इंडिया टुडे से बातचीत में मिशेल की वकील रोजमैरी पैट्रिज़ी ने बताया, ‘इस साल जांचकर्ता मिशेल से पूछताछ करने के लिए दुबई गए थे| वास्तव में वह उसका एक हस्ताक्षर चाीते थे. जांचकर्ता उससे कुछ ऐसा चाहते थे जो सच नहीं था| इसके बदले उसे आरोपमुक्त करने का लालच दिया गया था| उसने हस्ताक्षर करने से मना कर दिया| इसके बाद जांचकर्ता वापस भारत आ गए और उसे गिरफ़्तार कर लिया गया|

 

 

 

गौरतलब है कि 2013 में संप्रग सरकार के समय अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाला सामने आया था|  इसमें कई भारतीय राजनेताओं और सैन्य अधिकारियों पर अगस्ता वेस्टलैंड से मोटी घूस लेने का आरोप है| इतावली कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड से भारत ने 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टर खरीदने का सौदा किया था. यह सौदा 3600 करोड़ रुपये का था|  इसमें 360 करोड़ रुपये की रिश्वतखोरी की बात सामने आई जिसके बाद संप्रग सरकार ने सौदा रद्द कर दिया था

 

 

 

रणदीप सुरजेवाला ने बताई 10 बातें

 

 

1. संप्रग सरकार ने 12 फरवरी, 2013 को इस मामले की जांच सीबीआई को दे दी थी. राष्ट्रीय हित का अनुसरण करते हुए संप्रग सरकार ने अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी से 2068 करोड़ रुपये बैंक सिक्योरिटी जब्त कर वसूल कर लिया, जबकि मात्र 1620 करोड़ रुपया ही कंपनी को दिया गया था

 

 

 

2. UPA सरकार  ने Feb 2013 में, AgustaWestland को दिया 12 हेलीकॉप्टरों की खरीद का सौदा कांग्रेस-UPA सरकार ने ख़ारिज कर दिया।

 

3. UPA सरकार ने AgustaWestland मामले की जाँच भी करवाई, FIR भी करवाई और Agusta Westland मामले को CBI के हवाले सौंप भी दिया।

 

 

4.  10 Feb 2014 को कांग्रेस-UPA सरकार ने AgustaWestland के ख़िलाफ़ ‘Black Listing’ की करवाई शुरू की तथा उसे ‘Blacklist’ किया।

 

 

5. UPA सरकार ने AgustaWestland के भारतीय बैंको में जमा ₹240 Cr की बैंक गारंटी ज़ब्त कर वाली, कांग्रेस सरकार ने Italy की अदालत में केस लड़ा और £228 मिलियन की अंतराष्ट्रीय गारंटी भी ज़ब्त कर ली।

 

 

6. AgustaWestland के 3 हेलीकॉप्टर भी कांग्रेस-UPA की सरकार ने ही ज़ब्त कर लिए।

 

 

 

7. AgustaWestland से कांग्रेस-UPA सरकार ने ₹1,620 Crore की राशि के against ₹2,954 Crore की राशि वसूली, यानि ₹1,334 Crore अधिक

 

 

8. अब बताइये, मोदी सरकार और AgustaWestland का रिश्ता क्या कहलाता है ? मोदी सरकार बनते ही आये Blacklisted Agusta Westland कंपनी के आये ‘अच्छे दिन’ क्योंकि- 22 July 2014, को मोदी सरकार ने Agusta Westland की blacklisting ख़त्म की।

 

 

 

9. मोदी सरकार बनते ही आये Blacklisted Agusta Westland कंपनी के आये ‘अच्छे दिन’ क्योंकि- Aug 2014 में AgustaWestland को AW119 हेलीकॉप्टर बनाने के लिए विदेशी निवेश की इजाज़त दी

 

 

 

10.  मोदी सरकार बनते ही आये Blacklisted Agusta Westland कंपनी के आये ‘अच्छे दिन’ क्योंकि- AgustaWestland को ‘Make In India’ का निमंत्रण दिया और नौसेना के लिए 100 Naval Utility हेलीकॉप्टर की खरीद की इजाज़त दी।

 

 

अगस्ता वेस्टलैंड हेलीकॉप्टर डील: कोर्ट ने क्रिश्चियन मिशेल को 5 दिन की CBI न्यायिक हिरासत में भेजा

 

 

 

क्या है पूरा मामला

 

जानकारी के मुताबिक, मिशेल ने कुछ लोगो इस डील के दौरान घूस दी थी जिसके नाम उसने कोड वर्ड में लिखे थे उसका खुलासा यही कर सकता है. यूएई की सुरक्षा एजेंसियों ने फरवरी 2017 में मिशेल को गिरफ्तार किया था और इसके बाद से ही उसके प्रत्यर्पण की कोशिशें चल रही थीं. मिशेल को भारत प्रत्यर्पित कराने के लिए भारतीय एजेंसियों सीबीआई एवं प्रवर्तन निदेशालय ने यूएई का कई बार दौरा किया. इस दौरान एजेंसियों ने यूएई के अधिकारियों एवं न्यायालय के साथ घोटाले से जुड़े आरोपपत्र, गवाहों के बयान और अन्य साक्ष्य एवं दस्तावेज साझा किए थे|

 

 

 

ईडी के दस्तावेज के मुताबिक, मिशेल को 12 हेलिकॉप्टर के समझौते को अपने पक्ष में कराने के लिए 225 करोड़ दिये गए. आरोप है कि यूपीए सरकार के दौरान 2010 में हुए इस डील का करार पाने के लिए एंग्लो-इटैलियन कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड ने भारतीय राजनेताओं, रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों, नौकरशाहों समेत वायुसेना के दूसरे अधिकारियों को रिश्वत देने के लिए मिशेल को करीब 350 करोड़ रुपए दिए| इस सौदे में 2013 में घूसखोरी की बात सामने आने पर तत्कालीन रक्षा मंत्री ए के एंटोनी ने ना केवल सौदा रद्द किया बल्कि सीबीआई जांच के आदेश भी दिए|

 

 

 

 

 

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING