loading...

मिताली राज ने कोच रमेश पोवार और COA सदस्‍य डायना एडुलजी पर लगाए गंभीर आरोप

  • 27 November,2018
  • 93 Views
मिताली  राज ने कोच रमेश पोवार और COA सदस्‍य डायना एडुलजी पर लगाए गंभीर आरोप

नई दिल्ली: भारत की सीनियर महिला क्रिकेटर और वनडे टीम की कप्तान मिताली राज ने प्रशासकों की समिति (COA) की सदस्य डायना एडुलजी (Diana Edulji) और कोच रमेश पोवार  पर पक्षपात का आरोप लगाया। कप्तान मिताली राज ने बीसीसीआई को शिकायती पत्र  में  उन्होंने लिखा कि, पोवार ने वेस्टइंडीज में वर्ल्ड टी20 की शुरुआत से ही उन्हें अपमानित किया।

 

 

पत्र  में उन्होंने लिखा कि, हमेशा डायना एडुलजी में विश्वास व्यक्त करते हैं और सीओए के सदस्य के रूप में हमेशा उनकी स्थिति का सम्मान करते हैं, कभी नहीं सोचा था कि वह मेरे खिलाफ अपनी  पद का दुरूपयोग करेगी, सुनने के बाद मुझे कैरिबियन(वेस्टइंडीज) में क्या जाना था, जैसा कि मैं उन्हें बता चुकी थी।

 

 

मिताली ने कहा,  मिताली ने कहा, टी20 विश्व कप के सेमीफाइनल में मेरे बेंचिंग के फैसले के संबंध में प्रेस में उनके (सीओए सदस्य डायना एडुलजी) ने बहादुरी से समर्थन किया है, क्योंकि मुझे उनसे जुड़े वास्तविक तथ्यों को पता है, क्योंकि वह मुझसे बात कर रही है|

 

 

मिताली ने कहा, 20 साल के लंबे करियर में पहली बार, मैने अपमानित महसूस किया। मुझे यह सोचने के लिए मजबूर होना पड़ा कि क्या मेरे देश में मेरी सेवाएं सत्ता में कुछ लोगों के लिए कोई मूल्य है जो मुझे नष्ट करने और मेरा आत्मविश्वास तोड़ने के लिए बाहर हैं|

 

मिताली ने कहा, मुझे यह सोचने पर मजबूर होना  कि देश के लिए मेरी सेवाओं की अहमियत सत्ता में मौजूद कुछ लोगों के लिए है भी या नहीं या वे मेरा आत्मविश्वास खत्म करना चाहते हैं।’

 

 

कोच (रमेश पोवार) के साथ मेरे मुद्दे तुरंत शुरू हुए क्योंकि हम वेस्टइंडीज में थे। पहले वहां छोटे संकेत थे कि मेरे प्रति उनका व्यवहार अनुचित और भेदभावपूर्ण था|लेकिन मैंने इसके बारे में ज्यादा परेशान नहीं किया |उनके लिए (कोच रमेश पोवार) मैं टीम में मौजूद नहीं थी।उन्‍होंने कहा ,‘यदि मैं कहीं आसपास बैठी हूं तो वह निकल जाते थे या दूसरों को नेट पर बल्लेबाजी करते समय देखते थे लेकिन मैं बल्लेबाजी कर रही हूं तो नहीं रुकते थे. मैं उनसे बात करने जाती तो फोन देखने लगते या चले जाते.’मिताली ने कहा ,‘यह काफी अपमानजनक था और सभी को दिख रहा था कि मुझे अपमानित किया जा रहा है. इसके बावजूद मैने अपना आपा नहीं खोया

 

 

मिताली ने बताया, ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच से पहले मेरे घुटने में सूजन थी और इतने दबाव के कारण मुझे बुखार भी आ गया था। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच से एक दिन पहले शाम को टीम मीटिंग हुई। रमेश ने मेरे रूम में कॉल किया और निर्देश दिया कि ग्राउंड पर न आऊं क्योंकि वहां मीडिया होगी। मुझे समझ नहीं आया कि मेरे टीम के साथ रहने पर मीडिया को क्या करना है। मुझे कहा गया कि हमारे सबसे बड़े मुकाबलों में से एक में मैं अपनी टीम के साथ नहीं रहूं। मैं हैरान थी। मैंने तुरंत मैनेजर से बात की और कहा कि मैं गंभीर चोटिल नहीं हूं बल्कि बीमार हूं। मैं टीम के साथ जाकर मैच देखना चाहती हूं। मैनेजर तैयार हो गई और मुझे ग्राउंड में जाने की इजाजत दी।

 

 

 

उन्होंने आगे लिखा, ‘मैनेजर से बात करने के कुछ समय बाद रमेश ने मुझे मैसेज किया कि ड्रेसिंग रूम से बाहर नहीं निकलना। मुझे अजीब लगा कि वह इसमें शामिल क्यों हो रहे हैं जब फैसला मैनेजर और फिजियो का है। जब हम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जीते, तो रमेश ने मेरी टीम के साथी से बोला कि मिताली को डगआउट आने का बोलो ताकि विक्टरी लैप में टीम के साथ रहे। यह अनजान था क्योंकि मुझे पूरे मैच के दौरान नजरबंद रखा और कभी ड्रेसिंग रूम से निकलने की इजाजत नहीं दी।

 

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING