लखनऊ: 800 शिक्षा मित्रों की मौत का दावा, 63 महिला और 450 पुरुष शिक्षा मित्रों ने करवाया था मुंडन

  • 07 October,2018
  • 229 Views
लखनऊ: 800 शिक्षा मित्रों की मौत का दावा, 63 महिला और 450 पुरुष शिक्षा मित्रों ने करवाया था मुंडन

लखनऊ: आम शिक्षक शिक्षा मित्र एसोसिएशन उत्तर प्रदेश की प्रदेश अध्यक्ष उमा देवी ने चित्रकूट और बांदा में हुई जनजागृति सभाओं में मिले व्यापाक जनसमर्थन के बाद घोषणा की है कि सरकार उनकी लगातार उपेक्षा कर रही है। ऐसे में पितृपक्ष में रविवार 7 अक्टूबर को ईको गार्डन में सरकारी नीतियों के विरोध में तर्पण करेंगी। ईको गार्डन में उनका प्रदर्शन 18 मई से अनवरत चल रहा है।

 

उमा देवी ने बताया कि प्रदेश में एक लाख 72 हजार शिक्षा मित्र हैं, जिनकी लगातार उपेक्षा हो रही है। अब तक आठ सौ से अधिक शिक्षा मित्रों का निधन हो चुका है। ईको गार्डन में उनका संगठन 9 से 24 जून तक अनशन, 25 से 27 जून तक आमरण अनशन कर चुका है। इस क्रम में 101 ब्राह्मण शिक्षा मित्रों ने अपना जनेऊ तक 26 जून को त्याग दिया था। यही नहीं 25 जुलाई को सामूहिक मुंडन तक करवाया गया। उन्होंने बताया कि 25 जुलाई 2017 को ही समायोजन रद्द किया गया था| इसलिए खासतौर से उस काले दिन के विरोध में 63 महिलाओं और 450 पुरुष शिक्षा मित्रों ने मुंडन करवाया था।

 

दर्शनकारियों की मांग है कि आईटीई ऐक्ट 2009 के तहत 124,000 पैरा टीचर को अपग्रेड करते हुए शिक्षा अधिकार अधिनियम कानून के तहत पूर्ण शिक्षक का दर्जा एवं उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा नियमावली के अनुसार पूर्णशिक्षक का वेतनमान दिया जाये। जो शिक्षा मित्र आरटीई ऐक्ट 2009 में किसी विधिक पहलू के कारण नहीं समाहित हो सकते हैं उन्हें भारत के राजपत्र 2017 के अनुसार सहायक अध्यापक पद पर रखते हुए चार वर्ष में उत्तराखंड की तर्ज पर टेट उत्तीर्ण करने की छूट प्रदान की जाये। जो शिक्षा मित्र टेट उत्तीण हैं, उनको बिना लिखित परीक्षा उम्र और अनुभव का भरांक देकर नियमित किया जाये।

 

बिहार मॉडल के तर्ज पर असमायोजित शिक्षा मित्रों को समान कार्य समान वेतन के आधार पर 12 माह 62 वर्ष सेवा का अवसर दिया जाये। मृतक 806 शिक्षा मित्रों के परिवार को उचित मुआवजा और आर्थिक सुरक्षा के लिए परिवार के किसी एक सदस्य को उसकी योग्यता के अनुसार नौकरी दी जाए। उमा देवी ने कहा कि अगर समयबद्ध निस्तारण नहीं किया गया तो आन्दोलन को वृहद किया जाएगा।

 

 

 

 

 

 

 

Author : kapil patel

Share With

Tag With

आपके लिए

You may like

Leave A Reply

Follow us on

आपके लिए

TRENDING