loading...

ओडिशा: 14 वर्षीय छात्रा ने छात्रावास में दिया बच्ची को जन्म, स्थानीय लोगों ने विद्यालय के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन

  • 14 January,2019
  • 163 Views
ओडिशा: 14 वर्षीय छात्रा ने छात्रावास में दिया बच्ची को जन्म, स्थानीय लोगों ने विद्यालय के खिलाफ किया विरोध प्रदर्शन

भुवनेश्वर: ओडिशा (Odisha) में कंधमाल जिले (Kandhamal)के सरकारी आदिवासी आवासीय स्कूल (Government Tribal School Hostel) में एक नाबालिग छात्रा ने अपने छात्रावास (School Hostel) में एक बच्ची (Baby Birth) को जन्म दिया, जिसके बाद स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया|

 

कंधमाल (Kandhamal) के एक आवासीय विद्यालय के छात्रावास में एक 14 वर्षीय नाबालिग लड़की के बच्चे को जन्म देने के बाद स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। एसपी प्रतीक सिंह(SP Prateek Singh) ने कहा कि,  “प्रारंभिक पूछताछ से पता चला है कि 7-8 महीने पहले जब पीड़िता अपने घर गई थी, तो उसके गाँव में एक 23 वर्षीय व्यक्ति द्वारा उसके साथ बलात्कार किया गया था।

 

एसपी प्रतीक सिंह का कहना है, “इस सूचना के आधार पर पुलिस ने तुरंत आरोपी को हिरासत में ले लिया। प्रशासन ने तत्काल स्टाफ के खिलाफ भी कार्रवाई की है।”

 

 

विपक्षी कांग्रेस और भाजपा ने घटना को लेकर बीजद  (BJD) सरकार पर हमला किया| प्रदेश कांग्रेस की महिला इकाई की अध्यक्ष सुमित्रा जेना (Sumitra Jena) ने मंत्री रमेश माझी का इस्तीफा मांगते हुए कहा कि घटना से साबित होता है कि बीजद सरकार लड़कियों और महिलाओं को सुरक्षा मुहैया कराने में नाकाम रही है|

 

 

 

 

 

बात दें की, ओडिशा (Odisha) में कंधमाल जिले के सरकारी आदिवासी आवासीय स्कूल (Government Tribal School Hostel) में एक नाबालिग छात्रा ने अपने छात्रावास (School Hostel) में एक बच्ची (Baby Birth) को जन्म दिया, जिसके बाद इस मामले में प्रशासन ने छह कर्मचारियों के खिलाफ रविवार को कार्रवाई की थी| कंधमाल जिला कल्याण की अधिकारी (डीब्ल्यूओ) चारूलता मलिक ने कहा था कि आठवीं कक्षा में पढ़ने वाली 14 वर्षीय छात्रा ने शनिवार को स्कूल के छात्रावास में बच्ची को जन्म दिया|

 

ओडिशा के अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति विभाग की ओर से संचालित सेवा आश्रम हाई स्कूल कंधमाल के दरिंगबाड़ी में स्थित है| छात्रा और उसकी नवजात बच्ची को रविवार को फूलबाणी उपमंडलीय अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डॉक्टरों ने कहा था कि उसकी हालत सामान्य है|

 

घटना को लेकर विपक्ष सरकार पर हमलावर है जबकि अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति मंत्री रमेश माझी ने कहा था कि, जिला कलेक्टर से मामले की जांच करने और उन परिस्थितियों पर रिपोर्ट देने को कहा गया है जिसमें छात्रा गर्भवती (Pregnant) हुई और उसने बच्ची को जन्म दिया| उन्होंने भुवनेश्वर में कहा, ‘‘ सरकार ने घटना पर गंभीर रूख अख्तियार किया है| उन्होंने कहा कि जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी| पुलिस भी मामले की जांच कर रही है| घटना के बाबत दरिंगबाड़ी कॉलेज के तृतीय वर्ष के छात्र को गिरफ्तार किया गया है| वह तकलमहा गांव का रहने वाला है|

 

जिला कलेक्टर डी ब्रूंडा ने कहा था कि संस्थान के दो मैट्रन, दो बावर्ची एवं अटेंडेंट, एक महिला पर्यवेक्षक और एक सहायक नर्स मिडवाइफ के खिलाफ ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में कार्रवाई की गई है|  ब्रूंडा ने कहा था कि सरकार ने स्कूल की प्रिंसीपल राधा रानी दलेई को भी इसी आरोप में निलंबित करने की सिफारिश की है|

 

जिला कलेक्टर ने कहा था कि सरकार के निर्देशों पर हमने कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है और जांच रिपोर्ट प्रस्तुत की गई है| लड़की ने रविवार को आरोप लगाया था कि बच्ची को जन्म देने के थोड़ी देर बाद ही दोनों को छात्रावास से बाहर कर दिया गया और उसे नजदीक के एक जंगल में शरण में लेने को मजबूर होना पड़ा| स्थानीय पुलिस ने रविवार को दोनों को ढूंढा और उन्हें अस्पताल ले गए|

 

 

 

Author : kapil patel
Loading...

Share With

Tag With

You may like

Leave A Reply

Follow us on

Loading...

आपके लिए

TRENDING